DA Image
4 जून, 2020|4:03|IST

अगली स्टोरी

थावे वाली माता के मंदिर में दूर-दूर के भक्तों की है गहरी आस्था, जानें इसका महत्व

thawe wali mata gopalganj  photo- gopalganj nic in

बिहार में गोपालगंज जिले के थावे दुर्गा मंदिर में सच्चे मन से पूजा-अर्चना करने वाले श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

गोपालगंज का सुप्रसिद्ध थावे दुर्गा मंदिर दो तरफ से जंगलों से घिरा है और इस मंदिर का गर्भगृह काफी पुराना है। इस मंदिर में नेपाल, उत्तर प्रदेश, बिहार के कई जिले से श्रद्धालु पूजा-अर्चना एवं दर्शन करने आते हैं। वैसे यहां सालों भर भक्तों की कतार लगी रहती है, लेकिन चैत्र और शारदीय नवरात्र में पूजा करने का ज्यादा महत्व है। नवरात्रि के नौ दिनों में यहां विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। नवरात्रों में यहां खास मेला भी लगाया जाता है। इसके अलावा इस मंदिर में सोमवार और शुक्रवार को विशेष पूजा होती है।

सावन के महीने में भी मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना की जाती है। इस मंदिर को लोग थावे वाली माता का मंदिर, सिंहासिनी भवानी के नाम से भी जानते हैं। यहां नवरात्रि में पशुबलि देने की भी परम्परा है। लोग मां के दरबार में खाली हाथ आते हैं लेकिन मां के आशीर्वा से भक्तों की सारी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं। थावे दुर्गा मंदिर सिद्धपीठ माना जाता है।

रामनवमी के अवसर पर राज्य सरकार दो दिवसीय थावे महोत्सव आयोजित करती है लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण महोत्सव का आयोजन नहीं किया गया है।

Guru Ka Rashi Parivartan 2020: अब 10 अप्रैल तक मकर राशि में रहेंगे गुरु बृहस्पति, संभल कर चलें इन 5 राशियों के लोग

नवरात्रि 2020: मुंगेर के मां चंडिका मंदिर में होती है सती की एक आंख की पूजा, नेत्र विकार से मिलती है मुक्ति

 

थावे दुर्गा मंदिर कथा-
थावे दुर्गा मंदिर की स्थापना की कहानी काफी रोचक है। चेरो वंश के राजा मनन सिंह खुद को मां दुर्गा का बड़ा भक्त मानते थे, तभी अचानक उस राजा के राज्य में अकाल पड़ गया। उसी दौरान थावे में माता रानी का एक भक्त रहषु था। रहषु के द्वारा पटेर को बाघ से दौनी करने पर चावल निकलने लगा। यही वजह थी कि वहां के लोगों को खाने के लिए अनाज मिलने लगा। यह बात राजा तक पहुंची लेकिन राजा को इस बात पर विश्वास नहीं हो रहा था। राजा रहषु के विरोध में हो गया और उसे ढोंगी कहने लगा और उसने रहषु से कहा कि मां को यहां बुलाओ। इस पर रहषु ने राजा से कहा कि यदि मां यहां आईं तो राज्य को बर्बाद कर देंगी लेकिन राजा नहीं माना। रहषु भगत के आह्वान पर देवी मां कामाख्या से चलकर पटना और सारण के आमी होते हुए गोपालगंज के थावे पहुंची। राजा के सभी भवन गिर गए। इसके बाद राजा मर गया।

एक अन्य मान्यता के अनुसार, हथुआ के राजा युवराज शाही बहादुर ने वर्ष 1714 में थावे दुर्गा मंदिर की स्थापना उस समय की जब वे चंपारण के जमींदार काबुल मोहम्मद बड़हरिया से दसवीं बार लड़ाई हारने के बाद फौज सहित हथुआ वापस लौट रहे थे। इसी दौरान थावे जंगल मे एक विशाल वृक्ष के नीचे पड़ाव डाल कर आराम करने के समय उन्हें अचानक स्वप्न में मां दुर्गा दिखीं। स्वप्न में आये तथ्यों के अनुरूप राजा ने काबुल मोहम्मद बड़हरिया पर आक्रमण कर विजय हासिल की और कल्याण पुर, हुसेपुर, सेलारी, भेलारी, तुरकहा और भुरकाहा को अपने राज के अधीन कर लिया। विजय हासिल करने के बाद उस वृक्ष के चार कदम उत्तर दिशा में राजा ने खुदाई कराई, जहां दस फुट नीचे वन दुर्गा की प्रतिमा मिली और वहीं मंदिर की स्थापना की गई। 

थावे दुर्गा मंदिर के मुख्य पुजारी सुरेश पांडेय ने बताया कि लॉकडाउन के मद्देनजर जिला पदाधिकारी और अनुमंडल पदाधिकारी के आदेश के अनुसार मंदिर फिलहाल बंद है। प्रतिदिन माताजी का श्रृंगार और भोग लगाया जाता है। वहीं, गोपालगंज के अनुमंडल पदाधिकारी बिहार धार्मिक न्यास बोर्ड के मनोनीत थावे दुगार् मंदिर के स्थायी सचिव उपेंद्र कुमार पाल ने बताया कि कोरोना वायरस से संक्रमण का प्रसार रोकने के लिए मंदिर का कपाट बंद करवा दिया गया है। 
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:devotees of up and bihar have deep faith in Thawe Wali Mata temple gopalganj bihar know its importance