DA Image
6 जुलाई, 2020|4:16|IST

अगली स्टोरी

कोरोना का ग्रहण: बैखासी स्नान आज, लॉकडाउन के चलते नहीं पहुंच सके श्रद्धालु

haridwar

बैसाखी के दिन सोमवार को हरकी पैड़ी पर सन्नाटा पसरा रहा। लॉकडाउन के चलते करोड़ों रुपये का नुकसान कारोबारियों को उठाना पड़ा है। यह पहला मौका रहा जब बैसाखी पर यहां इस तरह का सन्नाटा पसरा रहा। पिछले 13 और 14 अप्रैल को करीब 50 लाख यात्री स्नान के लिए हरिद्वार पहुंचे थे। 

सोमवार को खुशहाली के पर्व बैखासी की शुरुआत हुई। मंगलवार को बैसाखी का स्नान है, लेकिन लॉकडाउन के कारण हरकी पैड़ी समेत पूरे शहर भर के घाट खाली रहे। बाजारों में पूरी तरह सन्नाटा पसरा रहा। सोमवार दोपहर को बैसाखी की शुरुआत हो चुकी थी। लेकिन इक्का-दुक्का लोग ही स्नान करते दिखे। हालांकि हो सकता है कि मंगलवार को कुछ स्थानीय लोग गंगा स्नान को आएं,  लेकिन लॉकडाउन की स्थिति को देखते हुए कुछ भी कहना संभव नहीं होगा। यदि सब कुछ सामान्य रहता तो आज के दिन धर्मनगरी में लाखों लोग पहुंच जाते। पुलिस प्रशासन के कई हजार कर्मचारी इस मेले की व्यवस्था बनाने में व्यस्त रहते। हाईवे पर घंटों का जाम लगा रहता। लेकिन इसके विपरीत हाईवे भी सुनसान है।  

कारोबारियों को करोड़ों का नुकसान- 
लॉकडाउन होने के कारण होटल, धर्मशाला और दुकानदारों का करोड़ों का नुकसान हुआ। एक ही दिन में हरिद्वार में कई करोड़ों रुपये का कारोबार होता था। लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ। व्यापारी नेता सुरेश गुलाटी व संजीव नैय्यर की मानें तो हरिद्वार का बाजार मंदी में आ गया है। कारोबारियों का इससे उबरना बहुत मुश्किल है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Corona effect: Baikhasi snan today devotees can not reach to take pious bath due to lockdown