Hindi Newsधर्म न्यूज़Chitragupta Pooja 2023 Date and Time Pooja samagri list and pujavidhi

Chitragupta Puja 2023: आज है चित्रगुप्त पूजा, नोट कर लें शुभ मुहूर्त, सामग्री लिस्ट और पूजाविधि

Chitragupta Pooja 2023 Date: हर साल कार्तिक माह शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को चित्रगुप्त भगवान की पूजा की जाती है। मान्यता है कि ऐसा करने से साधक को विष्णु लोक की प्राप्ति होती है।

Arti Tripathi लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीTue, 14 Nov 2023 05:31 AM
हमें फॉलो करें

Chitragupta Puja 2023 Date And Time: पंचांग के अनुसार,हर साल कार्तिक महीने में शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भाई दूज के साथ भगवान चित्रगुप्त की पूजा-आराधना भी की जाती है। धार्मिक मान्यता है कि यमराज के सहयोगी चित्रगुप्त संसार में मनुष्यों के कर्मों का लेखा-जोखा रखते हैं। इस दिन चित्रगुप्त जी के साथ कलम और दवात की भी पूजा का विधान है। कहा जाता है कि ऐसा करने पर जातक को मृत्यु के पश्चात विष्णु लोक की प्राप्ति होती है उसके सारे पाप नष्ट हो जाते हैं और उसे नरक के कष्ट नहीं झेलने पड़ते हैं। आइए जानते हैं साल 2023 में चित्रगुप्त पूजा की सही डेट, शुभ मुहूर्त, महत्व और पूजाविधि...

चित्रगुप्त पूजा की सही डेट: इस साल चित्रगुप्त की पूजा 14 नवंबर 2023 दिन मंगलवार को पड़ रही है। पंचांग के अनुसार, साल 2023 में चित्रगुप्त पूजा की शुरुआत 14 नवंबर को दोपहर 2 बजकर 35 मिनट से हो रही है और  15 नवंबर को दोपहर 1 बजकर 45 मिनट पर समाप्त होगी। 

पूजा का शुभ मुहूर्त: पंचांग के अनुसार, 14 नवंबर को सुबह 10 बजकर 48 मिनट से लेकर दोपहर 12 बजकर 13 मिनट पूजा का पहला मुहूर्त बन रहा है। दूसरा सुबह 11 बजकर 50 मिनट से 12 बजकर 36 मिनट तक पूजा का अभिजीत मुहूर्त बन रहा है और शाम को 5 बजे से 6 बजकर 36 मिनट तक पूजा का अमृत काल मुहूर्त बन रहा है। इस दिन दोपहर के समय 3 बजकर 03 मिनट से 4 बजकर 29 मिनट तक राहुकाल का समय है। इस दौरान शुभ कार्यों को वर्जित माना गया है।

चित्रगुप्त पुजा सामग्री: चित्रगुप्त भगवान की पूजा के लिए कपूर, तुलसी, मिठाई, पेपर, पेन, शहद, एक कपड़ा, पीली सरसों, गंगाजल, इंक,पान,तिल, गुलाल, तुलसी का पत्ता, फल, फूल, रोली, अक्षत और चंदन चाहिए।

पूजाविधि:

चित्र गुप्त पूजा के लिए लकड़ी की एक चौकी पर लाल या पीले रंग का कपड़ा बिछाएं।
अब इस पर चित्रगुप्त जी की प्रतिमा स्थापित करें।
चित्रगुप्त भगवान को फल, फूल, धूप, दीप और नैवेद्य अर्पित करें।
इसके बाद उनकी विधि-विधान से पूजा-अर्चना करें।
पूजा के दौरान चित्रगुप्त जी की प्रतिमा के सामने कलम रखें।
एक सफेद कागज पर हल्दी लगाएं और उसपर 'श्री गणेशाय नमः' लिखें।
कागज के नीचे अपना नाम, पता और डेट लिख दें। दूसरे तरफ अपने खर्चों का विवरण लिखें।
इसके बाद कागज पर 11 बार ऊँ चित्रगुप्ताय नमः मंत्र लिखें।
पूजा के बाद कलम उठाकर अपने पास रख लें और इसका इस्तेमाल करें।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।
 

ऐप पर पढ़ें