DA Image
10 जुलाई, 2020|2:09|IST

अगली स्टोरी

Chandra Grahan 2020: कुछ घंटों बाद लगने वाला है चंद्र ग्रहण, नहीं होगा सूतक काल, ग्रहण के दौरान करें ये काम

chandra grahan

इस साल एक नहीं पांच ग्रहण लग रहे हैं। इनमें से तीन ग्रहण एक ही महीने में पड़ रहे हैं। इसलिए ज्योतिषियों के लिए यह थोड़ा चिंता का विषय बना हुआ है। इसमें भी 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण बड़ा सूर्य ग्रहण होगा। आज रात को चंद्र ग्रहण लग रहा है। यह ग्रहण रात्रि 5 जून और 6 जून के मध्य लगेगा। यह ग्रहण उपछाया चन्द्रग्रहण होगा।

उपछाया चन्द्रग्रहण तब होता है जब सूरज और चंद्रमा के बीच पृथ्वी घूमते हुए आती है, लेकिन यह तीनों एक सीधी लाइन में नहीं होते। ऐसी स्थिति में चांद की छोटी सी सतह पर अंब्र नहीं पड़ती है। पृथ्वी के बीच से पड़ने वाली छाया को अंब्र कहा जाता है। चांद के शेष हिस्से में पृथ्वी के बाहरी हिस्से की छाया पड़ती है। जिसे उपछाया कहा जाता है। इससे पहले दस जनवरी को साल का पहला चन्द्रग्रहण लगा था, वह भी उपछाया चंद्र ग्रहण था। 

 इस ग्रहण का सूतक काल नहीं माना जाएगा। ज्योतिषियों के मुताबिक इस ग्रहण का भारत में प्रभाव नहीं है इसलिए इस ग्रहण के दौरान सूतक काल नहीं माना जाएगा। वहीं ग्रहण काल होने के कारण कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए। ज्योतिषियों के अनुसार ग्रहण के समय भगवान (चंद्रमा या सूर्य) को राहु ग्रसित करता है, जिससे भगवान कष्ट में रहते हैं। ऐसे समय में जब भगवान का ध्यान किया जाता है और मंत्र पढ़े जाे हैं तो इससे भगवान को इससे बल मिलता है और उनका कष्ट कम होता है। इसलिए ग्रहण के दौरान भगवान का ध्यान करना अच्छा रहता है। इसके अलावा ग्रहण समाप्त होने के बाद किसी गरीब को दान देने से ग्रहण के दोष कम होते हैं। इसलिए ग्रहण के बाद घर की साफ सफाई कर अनाज, दूध औक कपड़े का दान कर सकते हैं। 

 

 


 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chandra Grahan 2020: Lunar eclipse date and time in india will be seen today there will not be Sutak kaal know what should do during 5 june Lunar eclipse