DA Image
22 अक्तूबर, 2020|9:31|IST

अगली स्टोरी

Chanakya Niti: ऐसे लोगों को समाज में मिलता है खूब मान-सम्मान, हर कोई करता है तारीफ

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में धन, तरक्की,  वैवाहिक जीवन, दोस्ती, दुश्मनी, मान-सम्मान और स्वास्थ्य को लेकर कई सुझाव दिए हैं। कहते हैं कि आचार्य चाणक्य की नीतियों को जिसने भी अपना लिया, वह जीवन में सफलता हासिल कर सकता है। चाणक्य की कई नीतियां व्यक्ति के धनवान और सफल होने के रास्ता आसान कर देती हैं। नीति शास्त्र में चाणक्य कहते हैं कि कई बार व्यक्ति को लाख कोशिशों के बावजूद भी सफलता हासिल नहीं होती है। ऐसे में उन्होंने सफल होने की कुछ नीतियां बताई हैं, जिन्हें अपनाकर सफलता का मार्ग आसान किया जा सकता है।

1. स्वार्थ के लिए न बदलें स्वभाव-

चाणक्य कहते हैं कि ऐसे व्यक्ति कभी सफल नहीं हो पाते, जो स्वार्थ के लिए स्वभाव बदलते हैं। इसलिए व्यक्ति को लालच या स्वार्थवश अपना स्वभाव नहीं बदलना चाहिए। विनम्र स्वभाव और अच्छे आचरण वाले व्यक्ति को मान-सम्मान मिलता है। नीति शास्त्र में चाणक्य कहते हैं कि स्वार्थी व्यक्ति को समाज में अपमानित होना पड़ सकता है, जबकि मानव हित में किए गए कार्यों से मान-सम्मान बढ़ता है।

कौवे और मुर्गे की इन अच्छी आदतों को जिसने भी अपनाया, उसे सफल होने से कोई नहीं रोक सका

2. विनम्र स्वभाव और आचरण-

चाणक्य के अनुसार, हर व्यक्ति को विनम्र होना चाहिए। विनम्र व्यक्ति के पास से क्रोध दूर रहता है। ऐसे में व्यक्ति को समाज में मान-सम्मान मिलता है। चाणक्य कहते हैं कि विनम्रता के सामने दुश्मन भी नतमस्तक हो जाते हैं। नीति शास्त्र के अनुसार, विनम्र स्वभाव के व्यक्ति सफलता हासिल करने में सक्षम होते हैं।

कहीं आपकी ये आदतें तो आपको धनवान बनने से नहीं रोक रहीं, जानिए क्या कहती है चाणक्य नीति

3. दूसरों को सम्मान देने की आदत-

चाणक्य कहते हैं कि हर व्यक्ति को मान-सम्मान पसंद होता है। समाज में सम्मान पाने के लिए इंसान कई तरह के प्रयास करता है। चाणक्य कहते हैं कि सम्मान पाने से पहले व्यक्ति को सम्मान देने की आदत होनी चाहिए। नीति शास्त्र के अनुसार, जो व्यक्ति दूसरों को सम्मान की निगाह से देखता है, उसे भी समाज में मान-सम्मान मिलता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chanakya Niti for Success and Rich This Type of People Get Respect in Society Know Ethics of Chanakya Niti