DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  चाणक्य नीति: ऐसे माता-पिता बच्चों के लिए होते हैं दुश्मन समान! जानिए क्या कहती है आज की चाणक्य नीति

पंचांग-पुराणचाणक्य नीति: ऐसे माता-पिता बच्चों के लिए होते हैं दुश्मन समान! जानिए क्या कहती है आज की चाणक्य नीति

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Thu, 13 May 2021 06:04 AM
चाणक्य नीति: ऐसे माता-पिता बच्चों के लिए होते हैं दुश्मन समान! जानिए क्या कहती है आज की चाणक्य नीति

बेहतर पालन-पोषण, अच्छे संस्कार और उत्तम शिक्षा व्यक्ति को सुखी जीवन जीने में मदद करती है। चाणक्य ने अपने ग्रंथ यानी चाणक्य नीति में व्यक्ति के जीवन के कई पहलुओं का वर्णन किया है। चाणक्य की नीतियां आज भी प्रासंगिक हैं और लोगों को सुखी और खुशहाल जीवन बिताने में मदद करती हैं। नीति शास्त्र में चाणक्य ने माता-पिता को लेकर भी कई बातें लिखी हैं। पढ़ें आज की चाणक्य नीति-

माता शत्रु: पिता वैरी येन बालो न पाठित:। 
न शोभते सभामध्ये हंसमध्ये बको यथा।। 

चाणक्य नीति: ये एक चीज होती है जीवन का सबसे बड़ा डर, अंदर ही अंदर घुटता रहता है इंसान

जिन्होंने अपने बच्चों को पढ़ाया-लिखाया नहीं, ऐसे माता-पिता बच्चों के लिए शत्रु के समान होते हैं। क्योंकि अनपढ़ बालक विद्वानों के बीच मान-सम्मान नहीं पाता है। उसका हमेशा अपमान किया जाता है। विद्वानों के बीच ऐसे बालक की स्थिति ऐसी होती है जैसे हंसों के झुंड में बगुले की स्थिति होती है।

चाणक्य नीति: दुश्मन को मात देने के लिए हमेशा इन बातों का रखें ध्यान, मिलेगी सफलता

चाणक्य का कहना है कि व्यक्ति केवल जन्म लेने भर से शिक्षित नहीं हो जाता है। कद-काठी, सूरत, आकार-प्रकार यह मनुष्यों का एक जैसा हो सकता है। लेकिन बुद्धिमानी और समझदारी ही उन्हें एक-दूसरे से अलग बनाती हैं।

जिस तरह से सफेद बगुला सफेद हंसों में बैठकर हंस नहीं बन जाता है। ठीक उसी तरह से शिक्षित व्यक्तियों के बीच अशिक्षित व्यक्ति बैठतक शोभा नहीं पाते हैं। ऐसे में माता-पिता का यह फर्ज है कि वह अपने बच्चों को ऐसी शिक्षा दें, ताकि उन्हें समाज में मान-सम्मान मिल सके।

संबंधित खबरें