DA Image
8 अप्रैल, 2021|8:04|IST

अगली स्टोरी

चाणक्य नीति: ये 3 आदत वाले सभी के होते हैं प्रिय, समाज में खूब मिलता है मान-सम्मान

आचार्य चाणक्य एक योग्य शिक्षक, कुशल अर्थशास्त्री और महान विद्वान थे। चाणक्य की नीति शास्त्र में लिखी गई नीतियों में जीवन के कई पहलुओं का जिक्र है। यही नीतियां मनुष्य को जीवन में सही और गलत का रास्ता दिखाती हैं। चाणक्य की नीतियों को अपनाकर लोग आसानी से सफलता हासिल कर पाते हैं। आचार्य चाणक्य ने एक नीति में बताया है कि किन गुणों वाले व्यक्तियों को समाज में मान-सम्मान मिलता है।

चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को कभी भी मान-सम्मान से समझौता नहीं करना चाहिए। नीति शास्त्र में वर्णित कुछ बातों में बताया गया है कि मान-सम्मान के लिए कई गुण जरूरी होते हैं। जानिए व्यक्ति के किन गुणों के कारण उसे समाज में मिलता है सम्मान-

इन चीजों में शर्म या संकोच करने वाले हो जाते हैं बर्बाद, आप भी जान लें आज की चाणक्य नीति

1. दूसरों को सम्मान दें- चाणक्य कहते हैं कि हर व्यक्ति चाहता है कि उसे समाज में मान-सम्मान मिले। लेकिन मान-सम्मान मांगने या छीनने से नहीं मिलता है। मान-सम्मान पाने के लिए दूसरों को भी सम्मान देना जरूरी होता है। हर व्यक्ति को सम्मान की नजर से देखना चाहिए और एक समान व्यवहार करना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि जिस व्यक्ति में यह आदत होती है, उसे समाज में मान-सम्मान मिलता है।

2. विनम्र रखें आचरण- चाणक्य नीति के अनुसार, इंसान को हमेशा अपना व्यवहार दूसरों के लिए विनम्र रखना चाहिए। व्यक्ति का दूसरों के लिए कैसा बर्ताव है, यह भी उसकी सफलता और मान-सम्मान के लिए जरूरी होता है। चाणक्य कहते हैं कि जिस व्यक्ति में विनम्रता का स्वभाव होता है, उसे समाज में मान-सम्मान के साथ सफलता भी हासिल होती है।

ये 3 चीजें ही पति-पत्नी का रिश्ता बनाती हैं मजबूत, आप भी जान लें सुखद वैवाहिक जीवन का राज

3. अच्छी संगत- चाणक्य कहते हैं कि इंसान की संगत जैसी होती है, उस पर वैसा ही प्रभाव पड़ता है। इसलिए व्यक्ति को हमेशा अच्छे और ज्ञानी लोगों की संगत करनी चाहिए। अच्छी संगत में रहने वाले व्यक्ति को समाज में मान-सम्मान मिलता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chanakya Niti for Life: These 3 habits belong to everyone dear there is a lot of respect in society according to chanakya niti