DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Chanakya Niti: इन लोगों से हमेशा बनाकर रखनी चाहिए दूरी, वरना बेवजह गले पड़ सकती है मुसीबत!
पंचांग-पुराण

Chanakya Niti: इन लोगों से हमेशा बनाकर रखनी चाहिए दूरी, वरना बेवजह गले पड़ सकती है मुसीबत!

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Sun, 08 Nov 2020 07:17 AM
Chanakya Niti: इन लोगों से हमेशा बनाकर रखनी चाहिए दूरी, वरना बेवजह गले पड़ सकती है मुसीबत!

आचार्य चाणक्य को नीति शास्त्र के साथ एक महान शिक्षाविद भी माना जाता है। चाणक्य ने नीति शास्त्र यानी चाणक्य नीति में जीवन से जुड़े तमाम पहलुओं की समस्याओं का हल बताया है। चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति को जीवन में कुछ लोगों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए, वरना बेवजह परेशान होना पड़ सकता है। चाणक्य कहते हैं कि अगर व्यक्ति ऐसे लोगों के साथ रिश्ते रखता है तो उसे खुद नुकसान झेलना पड़ सकता है।

चाणक्य ने एक श्लोक के जरिए बताया है कि किस प्रकार के लोगों की मदद करनी चाहिए और किस तरह के लोगों से दूरी बनाकर रखनी चाहिए। जानिए ऐसे लोगों के बारे में- 

मूर्खाशिष्योपदेशेन दुष्टास्त्रीभरणेन च।
दु:खिते सम्प्रयोगेण पंडितोऽप्यवसीदति।

ये 4 चीजें ही लव लाइफ को बनाती हैं सफल, पार्टनर को हमेशा खुश रखने की जान लें चाणक्य नीतियां

चाणक्य कहते हैं कि मूर्ख व्यक्ति से हमेशा दूर रहना चाहिए। चाणक्य का मानना है मूर्ख व्यक्ति किसी उपदेश या ज्ञान को  समझने की कोशिश नहीं करता है। ऐसे में ऐसे लोगों के साथ समय बर्बाद नहीं करना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि मूर्ख व्यक्ति को समझाने में कई बार मानसिक तनाव का भी सामना करना पड़ता है।

चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति की समझदारी उसके चरित्र पर भी निर्भर करती है। नीति शास्त्र में चाणक्य कहते हैं कि जिस व्यक्ति का चरित्र ठीक नहीं हो उससे दूरी बनाकर रखनी चाहिए। चाणक्य का मानना है कि ऐसे लोगों की मदद करने पर भी खुद को नुकसान झेलना पड़ सकता है। चाणक्य कहते हैं कि समाज में चरित्रहीन व्यक्ति के रिश्ते रखने से समाज में भी अपमान का सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में इस तरह के लोगों से उचित दूरी बनाकर रखना ही ठीक होता है।

स्त्रियों की ये आदतें ही बताती हैं उनका स्वभाव और व्यक्तित्व, आप भी जान लीजिए

चाणक्य कहते हैं कि जो व्यक्ति भगवान के दिए सुखों और जीवन से खुश नहीं होते हैं, वह हमेशा दुखी ही रहते हैं। ऐसे लोग दूसरों के सुखी जीवन से ईर्ष्या करते हैं। चाणक्य का मानना है कि इस तरह के लोगों से भी दूरी बनाकर रखना उचित होता है।


 

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें