DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Chaitra Navratri 2021: अमृत सिद्धि व सर्वार्थ सिद्धि योग में करें कलश स्थापना, जानिए चैत्र नवरात्रि के पहले दिन पूजा के शुभ मुहूर्त

पंचांग-पुराणChaitra Navratri 2021: अमृत सिद्धि व सर्वार्थ सिद्धि योग में करें कलश स्थापना, जानिए चैत्र नवरात्रि के पहले दिन पूजा के शुभ मुहूर्त

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Mon, 12 Apr 2021 10:41 PM
Chaitra Navratri 2021: अमृत सिद्धि व सर्वार्थ सिद्धि योग में करें कलश स्थापना, जानिए चैत्र नवरात्रि के पहले दिन पूजा के शुभ मुहूर्त

मां दुर्गा की उपासना का पर्व नवरात्रि 13 अप्रैल से शुरू होने वाले हैं। चैत्र नवरात्रि का 22 अप्रैल को समापन होगा। हिंदू पंचांग के अनुसार, नवरात्रि के साथ ही हिंदू नववर्ष की शुरुआत भी होगी। नवरात्रि के नौ दिनों तक मां दुर्गा के अलग-अलग स्वरूप की उपासना की जाती है। 

इस साल नवरात्रि के पहले दिन ब्रह्म मुहूर्त, अभिजीत मुहूर्त, सर्वार्थ सिद्धि योग और अमृत सिद्धि योग आदि शुभ मुहूर्त बन रहे हैं। नवरात्रि के पहले दिन मां दुर्गा की पूजा के लिए घटस्थापना की जाती है। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, इस नवरात्रि मां दुर्गा की सवारी घोड़ा (अश्व) है। जबकि प्रस्थान नर वाहन (मानव कंधे) पर होगा।

ये 4 राशि वाले होते हैं खूब बातूनी, अंजान लोगों से भी राज कर देते हैं शेयर

घटस्थापना का शुभ मुहूर्त-

दिन- मंगलवार
तिथि- 13 अप्रैल 2021
शुभ मुहूर्त- सुबह 05 बजकर 28 मिनट से सुबह 10 बजकर 14 मिनट तक।
अवधि- 04 घंटे 15 मिनट
घटस्थापना का दूसरा शुभ मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 56 मिनट से दोपहर 12 बजकर 47 मिनट तक।

सफलता का मूल मंत्र: प्रतियोगी परीक्षा में सफलता पाने के लिए अपनाएं ये 4 टिप्स

घटस्थापना के दिन शुभ मुहूर्त-

अमृतसिद्धि योग - 13 अप्रैल की सुबह 06 बजकर 11 मिनट से दोपहर 02 बजकर 19 मिनट तक। 
सर्वार्थसिद्धि योग - 13 अप्रैल की सुबह 06 बजकर 11 मिनट से 13 अप्रैल की दोपहर 02 बजकर 19 मिनट तक।
अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 12 बजकर 02 मिनट से  दोपहर 12 बजकर 52 मिनट तक।
अमृत काल - सुबह 06 बजकर 15 मिनट से 08 बजकर 03 मिनट तक।
ब्रह्म मुहूर्त- सुबह 04 बजकर 35 मिनट से सुबह 05 बजकर 23 मिनट तक।

चैत्र नवरात्रि घटस्थापना के लिए पूजन सामग्री-

चौड़े मुंह वाला मिट्टी का एक बर्तन, कलश, सप्तधान्य (7 प्रकार के अनाज), पवित्र स्थान की मिट्टी, जल (संभव हो तो गंगाजल), कलावा/मौली, आम या अशोक के पत्ते (पल्लव), छिलके/जटा वाला, नारियल, सुपारी, अक्षत (कच्चा साबुत चावल), पुष्प और पुष्पमाला, लाल कपड़ा, मिठाई, सिंदूर, दूर्वा इत्यादि।

संबंधित खबरें