DA Image
5 जून, 2020|5:32|IST

अगली स्टोरी

नवरात्रि में हर महिला को करने चाहिए 16 श्रृंगार, जानें क्या है इसके पीछे की वजह

navratri sringar tips

चैत्र नवरात्रि में मां दुर्गा के भक्त मां के 9 स्वरूपों की पूजा करके उन्हें प्रसन्न करने की कोशिश में लगे रहते हैं। नवरात्रि में मां दुर्गा के सोलह श्रृंगार करने का भी विशेष महत्व बताया जाता है। इतना ही नहीं इस खास मौके पर घर की बड़ी बुजुर्ग महिलाएं अपनी बहुओं को 16 श्रृंगार करके रहने की सलाह देते हुई नजर आती हैं। पर क्या आप जानती हैं आखिर क्या है इसके पीछे छिपी खास वजह। अगर नहीं तो आइए जानते हैं आखिर कौन से हैं वो 16 श्रृंगार जिसे करने से माता रानी अपने भक्तों पर प्रसन्न होती हैं। 

लाल जोड़ा-
धार्मिक मान्यताओं के अनुसार मां दुर्गा को लाल रंग बेहद पसंद है। यही वजह है कि माता को प्रसन्न करने के लिए नवरात्रि के दौरान लाल रंग के कपड़े पहनकर पूजा करने की सलाह दी जाती है। 

बिंदी-
महिलाओं के माथे पर बिंदी या कुमकुम लगा हुआ शुभ माना जाता है। माथे पर लगा कुमकुम हर महिला के लिए उसके सुहाग की निशानी माना जाता है।नवरात्रि के दौरान सुहागिन स्त्रियों को कुमकुम या सिंदूर से अपने ललाट पर लाल बिंदी जरूर लगानी चाहिए। 

मेहंदी-
किसी भी सुहागन स्त्री का श्रृंगार मेहंदी लगे बिना अधूरा ही रहता है। घर में किसी भी शुभ काम के दौरान महिलाएं हाथों और पैरों मे मेहंदी जरूर रचाती हैं। माना जाता है कि नववधू के हाथों में मेहंदी जितनी गाढ़ी रचती है, उसका पति उसे उतना ही अधिक प्रेम करता है। मेहंदी को सुहाग का प्रतीक माना जाता है। 

सिंदूर
सिंदूर को सुहाग का प्रतीक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि सिंदूर लगाने से पति की आयु लंबी होती है।

गजरा-
मां दुर्गा को मोगरे का गजरा बहुत प्रिय है। बालों की सुंदरता बढ़ाने और मां को प्रसन्न करने के लिए आप जूड़ा बनाकर उस पर गजरा लगा सकती हैं। 

काजल-
कहा जाता है किसी भी स्त्री के चेहरे की सबसे खूबसूरत चीज और उसके मन का आइना उसकी आंखें होती हैं। जिनका श्रृंगार होता है काजल। इसे महिलाएं अपनी आंखों की सुंदरता बढ़ाने के लिए लगाती हैं। इसके अलावा काजल बुरी नजर से भी आपको बचाए रखता है।

मांग टीका-
माथे के बीचों-बीच पहने जाने वाला यह आभूषण सिंदूर के साथ मिलकर हर लड़की की सुंदरता में चार चांद लगा देता है। ऐसा माना जाता है कि नववधू को मांग टीका सिर के बीचों-बीच इसलिए पहनाया जाता है ताकि वह शादी के बाद हमेशा अपने जीवन में सही और सीधे रास्ते पर चले।

चूड़ियां-
चूड़ियां सुहाग का प्रतीक मानी जाती हैं। ऐसा माना जात है कि सुहागिन स्त्रियों की कलाइयां चूड़ियों से भरी हानी चाहिए। ध्यान रखें चूड़ियों के रंगों का भी विशेष महत्व है। लाल रंग की चूड़ियां इस बात का प्रतीक होती हैं कि विवाह के बाद वह पूरी तरह खुश और संतुष्ट है। हरा रंग शादी के बाद उसके परिवार के समृद्धि का प्रतीक है।

नथ-
सुहागिन स्त्रियों के लिए नाक में आभूषण पहनना अनिर्वाय माना जाता है। आम तौर पर स्त्रियां नाक में छोटी नोजपिन पहनती हैं, जिसे लौंग कहा जाता है। नाक में नथ या लौंग उसके सुहाग की निशानी मानी जाती है।

बाजूबंद-
कड़े के सामान आकृति वाला यह आभूषण सोने या चांदी का होता है। यह बाहों में पूरी तरह कसा जाता है। इसलिए इसे बाजूबंद कहा जाता है। पहले सुहागिन स्त्रियों को हमेशा बाजूबंद पहने रहना अनिवार्य माना जाता था। ऐसी मान्यता है कि स्त्रियों को बाजूबंद पहनने से परिवार के धन की रक्षा होती है।

कानों में झुमके
कान में पहने जाने वाला यह आभूषण चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने का काम करता है। इसे पहनने से महिलाओं का चेहरा खिल उठता है। मान्यता है कि विवाह के बाद बहू को खासतौर से पति और ससुराल वालों की बुराई करने और सुनने से दूर रहना चाहिए।

अंगूठी
शादी के पहले मंगनी या सगाई के रस्म में वर-वधू द्वारा एक-दूसरे को अंगूठी को सदियों से पति-पत्नी के आपसी प्यार और विश्वास का प्रतीक माना जाता रहा है। हमारे प्राचीन धर्म ग्रंथ रामायण में भी इस बात का उल्लेख मिलता है। सीता का हरण करके रावण ने जब सीता को अशोक वाटिका में कैद कर रखा था तब भगवान श्रीराम ने हनुमानजी के माध्यम से सीता जी को अपना संदेश भेजा था। तब स्मृति चिन्ह के रूप में उन्होंनें अपनी अंगूठी हनुमान जी को दी थी।

मंगल सूत्र
शादीशुदा महिला का सबसे खास और पवित्र गहना मंगल सूत्र माना जाता है। इसके काले मोती महिलाओं को बुरी नजर से बचाते हैं।

पायल
पैरों में पहने जाने वाले आभूषण हमेशा सिर्फ चांदी से ही बने होते हैं। हिंदू धर्म में सोना को पवित्र धातु का स्थान प्राप्त है, जिससे बने मुकुट देवी-देवता धारण करते हैं और ऐसी मान्यता है कि पैरों में सोना पहनने से धन की देवी-लक्ष्मी का अपमान होता है।

कमरबंद
कमरबंद कमर में पहना जाने वाला आभूषण है, जिसे स्त्रियां विवाह के बाद पहनती हैं, जिसमें नववधू चाबियों का गुच्छा अपनी कमर में लटकाकर रखती है। कमरबंद इस बात का प्रतीक है कि सुहागन अब अपने घर की स्वामिनी है।

बिछुआ
पैरों के अंगूठे और छोटी अंगुली को छोड़कर बीच की तीन अंगुलियों में चांदी का बिछुआ पहना जाता है। शादी में फेरों के वक्त लड़की जब सिलबट्टे पर पैर रखती है, तो उसकी भाभी उसके पैरों में बिछुआ पहनाती है। यह रस्म इस बात का प्रतीक है कि दुल्हन शादी के बाद आने वाली सभी समस्याओं का हिम्मत के साथ मुकाबला करेगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Chaitra Navratri 2020:16 shringar Know the importance and significance of 16 shringar for women during navratri