DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Chaitra Navratri 2019 : नवरात्र पर शुभ चौघडि़या मुहूर्त में करें कलश स्थापना

navratri 2018

देवी मां की पूजा के लिए प्रत्येक दिन और प्रति क्षण ही श्रेष्ठ है परंतु नवरात्र के नो दिन देवी मां की उपासना के लिए विशेष महत्व रखते हैं। जगत के कल्याण के लिए आदि शक्ति ने अपने तेज को नौ अलग अलग रूपों में प्रकट किया जिन्हें हम नव-दुर्गा कहते हैं नवरात्री का समय मां दुर्गा के इन्ही नौ रूपों की उपासना का समय होता है, जिसमें प्रत्येक दिन देवी के अलग अलग रूप की पूजा की जाती है। .

विभोर इंदुसुत ने बताया कि इस बार चैत्र नवरात्र छह अप्रैल से शुरू होकर 14 अप्रैल तक रहेंगे। इस बार दुर्गा अष्टमी 13 अप्रैल और श्रीराम नौमी 14 को होगी। ज्योतिषविद विष्णु शर्मा ने बताया कि सुबह 9 से 10.30 बजे तक राहु काल रहेगा। इस दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। उन्होंने बताया कि कन्या पूजन के लिए तीन से 10 वर्ष की आयु की कन्या का पूजन विशेष फलदायी होता है।

ज्योतिषविद भारत ज्ञान भूषण बताते हैं कि शुभ चौघड़िया मुहूर्त में कलश स्थापना अति उत्तम प्रभाव वाला है। घट स्थापना का शुभ समय ज्योतिषविदों के अनुसार 6 अप्रैल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा यानि के पहले नवरात्रे वाले दिन सुबह 8 से 10 बजे के बीच स्थिर लगन चल रही होगी और 8 बजे से 9 : 30 बजे के बीच शुभ चौघड़िया मुहूर्त भी चल रहा होगा। 

इसलिए 6 अप्रैल को सुबह आठ बजे से नौ बजे के बीच घट स्थापना के लिए श्रेष्ठ समय होगा। इसी के साथ वास्तु शास्त्र की दृष्टि से किसी भी धार्मिक या पूजा के कार्य के लिए ईशान कोण को ही सबसे अच्छा माना गया है। इसलिए अगर संभव हो तो नवरात्र में घट स्थापना अपने घर या पूजा स्थल के ईशान कोण की और करें इसके अलावा पूर्व और उत्तर दिशा में भी घट स्थापना कर सकते हैं।

पंडित विनोद त्रिपाठी बताते हैं कि चैत्र नवरात्र हिन्दू रीति रिवाज से ऋतु परिवर्तन का उत्सव है। इसी दिन से हिन्दू नवसंवत्सर 2076 भी शुरू हो रहा है। नवसंवत्सर का विशेष महत्व है। इसी दिन भगवान श्री राम और युधिष्ठिर का राज तिलक हुआ था। इसी दिन उज्जैन के राजा विक्रमादित्य ने भयंकर युद्ध कर जनता को राहत दिलाई थी। नवसंवत्सर एवं नवरात्र का योग शुभता लाता है। इस दिन पूजा अर्चना और दान का विशेष महत्व है।

आचार्य विशाल भारद्वाज ने बताया कि ये समय ज्योतिषीय नजरिये से भी बहुत शुभ होता है इसलिए अपने किसी भी शुभ या नए काम की शुरुआत करने के लिए नवरात्रि के नौ दिन बहुत अच्छे मुहूर्त भी होते हैं। नीव पूजन, गृह प्रवेश, ऑफिस ओपनिंग, बिजनेस डील, फैक्ट्री लगाना और नए वाहन खरीदना जैसे सभी काम किए जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें ः Chaitra Navratri 2019 : इस दिन से शुरू हो रहे हैं चैत्र नवरात्र, जानें इन 9 दिनों का महत्व

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:chaitra navratri 2019 this is navratri kalash sthapna muhurat timing
Astro Buddy