DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Budh Purnima: यह है बुद्ध पूर्णिमा का शुभ मुहूर्त, इस पूर्णिमा पर स्नान और दान का विशेष महत्व

lord vishnu

आज है बुद्ध पूर्णिमा। पुराणों में वर्णित हैं कि इस दिन प्रातः नदियों एवं पवित्र सरोवरों में स्नान के बाद दान-पुण्य जरूर करें। आज के दिन किया दान बहुत लाभकारी होता है।

हिन्‍दू धर्म में बुद्ध पूर्णिमा का विशेष महत्‍व है। वैसाख महीने की पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध का जन्‍म हुआ था। ऐसा कहा जाता है कि  महात्‍मा बुद्ध श्री हरि विष्‍णु का नौवां अवतार हैं। हिन्‍दुओं के अलावा बौद्ध धर्म के लोग इस दिन को बुद्ध जयंती के रूप में मनाते हैं। वैसाख पूर्णिमा के दिन सुबह-सुबह श्री हरि विष्णु की पूजा की जाती है। इस दिन पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व है।  इस दिन धर्मराज की पूजा करने की भी मान्यता है। कहते हैं कि सत्यविनायक व्रत से धर्मराज खुश होते हैं। माना जाता है कि धर्मराज मृत्यु के देवता हैं इसलिए उनके प्रसन्‍न होने से अकाल मौत का डर कम हो जाता है। 

बुद्ध पूर्णिमा की तिथि और शुभ मुहूर्त 
पूर्णिमा तिथि प्रारंभ: 18 मई 2019 को सुबह 04 बजकर 10 मिनट से 
पूर्णिमा तिथि समाप्‍त: 19 मई 2019 को सुबह 02 बजकर 41 मिनट तक 


ऐसी मान्यता है कि आज के दिन तिल और चीनी का दान किया जाता है और पिंजरे में बंद पक्षियों को आजाद किया जाता है। स्नान के पश्चात व्रत का संकल्प लेकर भगवान विष्णु की पूजा करनी चाहिए। शक्कर और तिल दान करने से अनजान में हुए पापों का भी क्षय हो जाता है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Budh Purnima: This is the Shubh muhurat for Buddha Purnima special importance of snan and daan on this full moon