ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मधनु राशि में 6 फरवरी तक बुद्धदेव कन्या और सिंह राशि में दिखाएंगे ये कमाल

धनु राशि में 6 फरवरी तक बुद्धदेव कन्या और सिंह राशि में दिखाएंगे ये कमाल

बुद्ध देव को बुद्धि, तर्क, संवाद, गणित, चतुरता और मित्रता के कारक ग्रह कहा जाता है। इनका राशि परिवर्तन शनिवार 3 दिसंबर को गुरु की राशि धनु में आ गए हैं। इनके धनु राशि में आने से कई राशियों के लिए राशि

धनु राशि में 6 फरवरी तक बुद्धदेव कन्या और सिंह राशि में दिखाएंगे ये कमाल
Anuradha Pandeyपं दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली,नई दिल्लीMon, 05 Dec 2022 01:05 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

बुद्ध देव को बुद्धि, तर्क, संवाद, गणित, चतुरता और मित्रता के कारक ग्रह कहा जाता है। इनका राशि परिवर्तन शनिवार 3 दिसंबर को गुरु की राशि धनु में आ गए हैं। इनके धनु राशि में आने से कई राशियों के लिए राशियों में बदलाव हो रह है।  अब बुध देव 6 फरवरी 2023 तक धनु राशि में रहेंगे।ज्योतिष में ग्रहों के राशि परिवर्तन को बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। बुध के राशि परिवर्तन करने से कुछ राशियों का भाग्योदय होना तय है। आइए जानते हैं बुध के राशि परिवर्तन से किन 5 राशियों की किस्मत चमक उठेगी...

सिंह :- धनेश - लाभेश होकर पंचम भाव में।
           रोजगर , आय एवं लाभ में वृद्धि
           व्यापारिक दृष्टि से लाभ प्रद समय
           अध्ययन-अध्यापन में वृद्धि
           धनागम के आसार बनेंगे
            संतान को लेकर शुभ समाचार
            बौद्धिक प्रयोग के आधार लाभ
           राजनीति लाभ

कन्या :- लग्नेश-राज्येश होकर चतुर्थ भाव मे।
           सम्मान एवं पद में वृद्धि
           परिश्रम में वृद्धि
           सुख ,गृह एवं वाहन सुख में वृद्धि
           माता के स्वास्थ्य में वृद्धि
           मनोबल में वृद्धि
           रोजगार में वृद्धि
           प्रगति की अच्छी अवधि
           सीने में थोड़ा कष्ट ,घबराहट 

तुला :- भाग्येश-व्ययेश होकर तृतीय भावस्थ।
           भाग्य भाव पर दृष्टि भाग्य में वृद्धि
           पिता का सहयोग सानिध्य
           पराक्रम एवं सम्मान में वृद्धि
           भाई / बहनो पर खर्च
           यात्रा ,धार्मिक भी होगी
           व्यापार में नए अवसर
           बौद्धिकता में वृद्धि

वृश्चिक :- अष्टमेश-लाभेश होकर धन भाव मे।
           अष्टम भाव पर दृष्टि
            पेट और पैर की समस्या
           पेशाब या शुगर संबंधित समस्या में वृद्धि
           धन एवं आय में वृद्धि
           प्रसिद्धि एवं वाणी व्यवसाय में वृद्धि
           सुख में वृद्धि, 
           वाणी में तीव्रता भी सम्भव

धनु :- सप्तमेश- राज्येश होकर लग्न भाव में।
           व्यापारिक संबंधों में वृद्धि
           दांपत्य में सामान्य वृद्धि
           सरकारी या संस्थागत लाभ में वृद्धि
           जीवन साथी से वैचारिक तनाव
           सम्मान एवं कार्य क्षेत्र में वृद्धि
           साझेदारी से लाभ,भाग्य में वृद्धि,
           स्थान परिवर्तन की संभावना

 मकर :- रोगेश -भाग्येश होकर द्वादश भाव में।
           यात्रा की संभावना बनेगी
           पारिवारिक विवाद या तनाव
           आंखों मे कष्ट 
           खर्च में वृद्धि
           भाग्य में परिवर्तन की संभावना
           एलर्जी की भी समस्या
           आन्तरिक रोग एवं शत्रु में वृद्धि

 कुम्भ :- पंचमेश - अष्टमेश होकर पंचम भाव में।
           बौद्धिक क्षमता में वृद्धि
           अध्ययन-अध्यापन में रुचि
           संतान के पक्ष से शुभ समाचार
           अचानक स्वास्थ्य के कारण आय में कमी
           व्यापारिक क्षेत्र में परिवर्तन या विस्तार
           जीवन साथी से लाभ की स्थिति
          पुरानी बीमारी या पेट की समस्या से कष्ट

मीन :- सुखेश- सप्तमेश होकर राज्य भाव में। 
           माता के सानिध्य में वृद्धि परंतु कष्ट भी
           अपने से उच्चस्थ अधिकारी से विवाद
           सुख के साधनों एवं गृह, वाहन सुख में वृद्धि
           साझेदारी से लाभ 
           व्यापार में विस्तार या व्यापारिक लाभ में वृद्धि
           जीवन साथी का सहयोग एवं प्रेम संबंधों में वृद्धि
            परिश्रम में अवरोध ,पिता से विवाद या तनाव