Hindi Newsधर्म न्यूज़Bhaum Pradosh Vrat 2024 date and time shubh muhurat poojavidhi mantra and Aarti

Pradosh Vrat 2024: 3 या 4 जून,भौम प्रदोष व्रत कब है, जानें सही तिथि, शुभ मूहूर्त, मंत्र, पूजाविधि और आरती

Pradosh Vrat 2024 June Date, Shubh Muhurat : दृक पंचांग के अनुसार, 4 जून 2024 को भौम प्रदोष व्रत रखा जाएगा। मान्यता है कि इस दिन शिवजी की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

Arti Tripathi लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीTue, 4 June 2024 08:33 AM
हमें फॉलो करें

Pradosh Vrat June 2024 :हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत के दिन भगवान भोलेनाथ की पूजा-आराधना का बड़ा महत्व है। धार्मिक मान्यता है कि इस दिन शिवजी की पूजन और व्रत से भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। इस व्रत से धन, सुख-सौभाग्य में वृद्धि होती है। हर माह में शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है। दृक पंचांग के अनुसार, जून माह का पहला प्रदोष 4 जून 2024 मंगलवार को रखा जाएगा। ज्येष्ठ माह का प्रदोष व्रत मंगलवार को रखा जाएगा। इसलिए भौम प्रदोष व्रत कहा जाएगा। इस दिन शिवजी के साथ बजरंगबली की पूजा-आराधना का बड़ा महत्व है। आइए जानते हैं प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त,पूजाविधि, पूजन-सामग्री,मंत्र और आरती समेत सभी जरूरी डिटेल्स...

भौम प्रदोष व्रत का शुभ मुहूर्त : दृक पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि का आरंभ 4 जून को सुबह 12 बजकर 18 मिनट से रात 10 बजकर 01 मिनट तक रहेगा। भौम प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव के साथ हनुमानजी की पूजा की जाती है। 

पूजा का शुभ मुहूर्त : इस दिन रात 7 बजकर 16 मिनट से रात 9 बजकर 18 मिनट तक करीब दो घंटे तक पूजा का उत्तम मुहूर्त बन रहा है। 

रवि प्रदोष की पूजाविधि :

भौम प्रदोष व्रत के दिन सुबह जल्दी उठें।
स्नानादि के बाद स्वच्छ कपड़े पहनें।
मंदिर की साफ-सफाई करें।
फिर शिवजी को धूप-दीप और नैवेद्य अर्पित करें।
शिवलिंग पर कच्चा दूध और गंगाजल से जलाभिषेक करें।
इसके बाद सायंकाल में भगवान शिव की विधिवत पूजा करें।
शिवलिंग पर जलाभिषेक करें। प्रदोष व्रत की कथा पढ़ें।
शिवलिंग पर बेलपत्र, फूल, धतुरा, आक के फूल और भस्म चढ़ाएं।
इसके बाद शिवजी के बीज मंत्र 'ऊँ नमः शिवाय' का 108 बार जाप करें।
शिवचालीसा का पाठ करें और अंत में शिव-गौरी समेत सभी देव-देवताओं की आरती उतारें।

शिव चालीसा- 

॥दोहा॥
जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल मूल सुजान। कहत अयोध्यादास तुम, देहु अभय वरदान॥

॥चौपाई॥
जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥
भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥
अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन क्षार लगाए॥
वस्त्र खाल बाघम्बर सोहे। छवि को देखि नाग मन मोहे॥
मैना मातु की हवे दुलारी। बाम अंग सोहत छवि न्यारी॥
कर त्रिशूल सोहत छवि भारी। करत सदा शत्रुन क्षयकारी॥
नन्दि गणेश सोहै तहँ कैसे। सागर मध्य कमल हैं जैसे॥
कार्तिक श्याम और गणराऊ। या छवि को कहि जात न काऊ॥
देवन जबहीं जाय पुकारा। तब ही दुख प्रभु आप निवारा॥
किया उपद्रव तारक भारी। देवन सब मिलि तुमहिं जुहारी॥
तुरत षडानन आप पठायउ। लवनिमेष महँ मारि गिरायउ॥
आप जलंधर असुर संहारा। सुयश तुम्हार विदित संसारा॥
त्रिपुरासुर सन युद्ध मचाई। सबहिं कृपा कर लीन बचाई॥
किया तपहिं भागीरथ भारी। पुरब प्रतिज्ञा तासु पुरारी॥
दानिन महँ तुम सम कोउ नाहीं। सेवक स्तुति करत सदाहीं॥
वेद माहि महिमा तुम गाई। अकथ अनादि भेद नहिं पाई॥
प्रकटी उदधि मंथन में ज्वाला। जरत सुरासुर भए विहाला॥
कीन्ही दया तहं करी सहाई। नीलकण्ठ तब नाम कहाई॥
पूजन रामचन्द्र जब कीन्हा। जीत के लंक विभीषण दीन्हा॥
सहस कमल में हो रहे धारी। कीन्ह परीक्षा तबहिं पुरारी॥
एक कमल प्रभु राखेउ जोई। कमल नयन पूजन चहं सोई॥
कठिन भक्ति देखी प्रभु शंकर। भए प्रसन्न दिए इच्छित वर॥
जय जय जय अनन्त अविनाशी। करत कृपा सब के घटवासी॥
दुष्ट सकल नित मोहि सतावै। भ्रमत रहौं मोहि चैन न आवै॥
त्राहि त्राहि मैं नाथ पुकारो। येहि अवसर मोहि आन उबारो॥
लै त्रिशूल शत्रुन को मारो। संकट ते मोहि आन उबारो॥
मात-पिता भ्राता सब होई। संकट में पूछत नहिं कोई॥
स्वामी एक है आस तुम्हारी। आय हरहु मम संकट भारी॥
धन निर्धन को देत सदा हीं। जो कोई जांचे सो फल पाहीं॥
अस्तुति केहि विधि करैं तुम्हारी। क्षमहु नाथ अब चूक हमारी॥
शंकर हो संकट के नाशन। मंगल कारण विघ्न विनाशन॥
योगी यति मुनि ध्यान लगावैं। शारद नारद शीश नवावैं॥
नमो नमो जय नमः शिवाय। सुर ब्रह्मादिक पार न पाय॥
जो यह पाठ करे मन लाई। ता पर होत है शम्भु सहाई॥
ॠनियां जो कोई हो अधिकारी। पाठ करे सो पावन हारी॥
पुत्र होन कर इच्छा जोई। निश्चय शिव प्रसाद तेहि होई॥
पण्डित त्रयोदशी को लावे। ध्यान पूर्वक होम करावे॥
त्रयोदशी व्रत करै हमेशा। ताके तन नहीं रहै कलेशा॥
धूप दीप नैवेद्य चढ़ावे। शंकर सम्मुख पाठ सुनावे॥
जन्म जन्म के पाप नसावे। अन्त धाम शिवपुर में पावे॥
कहैं अयोध्यादास आस तुम्हारी। जानि सकल दुःख हरहु हमारी॥

॥दोहा॥
नित्त नेम कर प्रातः ही, पाठ करौं चालीसा। तुम मेरी मनोकामना, पूर्ण करो जगदीश॥
मगसर छठि हेमन्त ॠतु, संवत चौसठ जान। अस्तुति चालीसा शिवहि, पूर्ण कीन कल्याण॥

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


 

ऐप पर पढ़ें
Advertisement