ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyBhaum Pradosh Vrat 2024 Bhaum Pradosh january 2024 date time shubh muhurat and poojavidhi

Bhaum Pradosh Vrat : 8 या 9 जनवरी, साल 2024 का पहला प्रदोष व्रत कब? नोट कर लें सही डेट, शुभ मुहूर्त और पूजाविधि

Bhaum Pradosh Vrat January 2024: सनातन धर्म में प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव की पूजा-अराधना का बड़ा महत्व है। साल 2024 की पहली त्रयोदशी मंगलवार को पड़ रही है। इसलिए इसे भौम प्रदोष व्रत कहा जाएगा।

Bhaum Pradosh Vrat : 8 या 9 जनवरी, साल 2024 का पहला प्रदोष व्रत कब? नोट कर लें सही डेट, शुभ मुहूर्त और पूजाविधि
Arti Tripathiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 02 Jan 2024 11:25 PM
ऐप पर पढ़ें

Pradosh Vrat January 2024 : हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत का बड़ा महत्व है। हर महीने के शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को प्रदोष व्रत रखा जाता है। प्रदोष व्रत भगवान शिव की पूजा-आराधना के लिए समर्पित है। धार्मिक मान्यता है कि प्रदोष व्रत की शिवजी की पूजा करने से साधक की सभी मनोकामनाएं पूरी होती है और जीवन के सभी कष्टों से छुटकारा मिलता हैं। पंचांग के अनुसार, नए साल का पहली त्रयोदशी तिथि मंगलवार को पड़ रही है। इसलिए इस भौम प्रदोष व्रत कहा जाएगा। इस दिन शिवजी के साथ हनुमानजी की भी पूजा की जाती है। इससे जीवन के सभी बाधाएं दूर होती हैं। आइए जानते हैं भौम प्रदोष व्रत , शुभ मुहूर्त और महत्व...

भौम प्रदोष व्रत 2024 डेट : हिंदू पंचांग के अनुसार, कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी 8 जनवरी 2024 को रात 11 बजकर 58 मिनट पर शुरू होगी और 9 जनवरी को रात 10 बजकर 24 मिनट पर समाप्त होगी। इसलिए उदयातिथि के अनुसार, 9 जनवरी दिन मंगलवार को भौम प्रदोष व्रत रखा जाएगा।

प्रदोष का पूजा मुहूर्त : 9 जनवरी 2024 को शाम 5 बजकर 41 मिनट से लेकर 8 बजकर 24 मिनट तक प्रदोष काल पूजा का शुभ मुहूर्त रहेगा।

प्रदोष व्रत की पूजा सामग्री: प्रदोष व्रत में सायंकाल की पूजा के लिए आक के फूल, बेलपत्र, धूप, दीप, रोली, अक्षत, फल, मिठाई और पंचामृत समेत सभी पूजा सामग्री एक थाली में रख लें।

प्रदोष व्रत की पूजाविधि:

भौम प्रदोष व्रत के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठें।
स्नानादि के बाद साफ-सुथरे कपड़े पहनें। 
मंदिर साफ करें और शिवजी की प्रतिमा के सामने दीपक प्रज्जवलित करें।
शिवलिंग पर जलाभिषेक करें। शिवजी की विधिविधान से पूजा करें।
इसके बाद शाम को प्रदोष काल में शिवलिंग पर फिर से जलाभिषेक करें। 
भोलेनाथ को बेलपत्र,धतूरा और आक के फूल अर्पित करें। 
इसके बाद सभी देवी-देवताओं के साथ शिवजी की आरती उतारें।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें