ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyBhai Dooj today Shubh muhurat start bhai dooj tika from 8 am

Bhai Dooj Shubh muhurat: भाई दूज आज, टीका करने का शुभ समय सुबह 8 बजे से

Bhai Dooj Shubh muhurat tika: इस दिन यह भी मान्यता है कि भाई-बहन एक साथ यमुना में स्नान करते हैं। इस दिन अगर आप सच्चे दिल से अपने पापों की माफी मांगेंगे तो यमराज आपको माफ कर देंगे।

Bhai Dooj Shubh muhurat: भाई दूज आज, टीका करने का शुभ समय सुबह 8 बजे से
Anuradha Pandeyवरीय संवाददाता,मेरठWed, 15 Nov 2023 07:33 AM
ऐप पर पढ़ें

Bhai Dooj muhurat: यह पर्व यम और यमुना के प्रेम से जुड़ा है। यमुना को हमेशा अपने भाई यम के न आने की शिकायत रहती थी। एक दिन व्यस्तता के बावजूद यम अपनी बहन यमुना के यहां पहुंचे। बहन यमुना ने टीका करके यम को गोला( नारियल) दिया ताकि हर साल उनको याद रहे कि बहन के घर जाना है। तभी से भैया दोज पर बहन अपने भाइयों का टीका करके गोला देती हैं। इस पर्व पर बहन-भाई के यमुना में स्नान करने की भी परंपरा है। यम और यमुना भगवान सूर्य की संतान हैं।

द्वितीया तिथि कब तक
द्वितीया तिथि (दोज)15 नवंबर को दोपहर 1 47 तक उपस्थित रहेगी। सभी शुभ चौघड़िया मुहूर्त टीका करने के लिए श्रेष्ठ होते हैं। इस बार की स्थिति को देखें तो 15 नवंबर को द्वितीया तिथि क्योंकि सूर्योदय से ही आरम्भ हो जाएगी और दोपहर 1 बजकर 47 मिनट तक द्वितीया उपस्थित रहेगी। इसलिए दोपहर 147 से पहले ही बहनों को भाई को टीका कर लेना चाहिए।

Bhai Dooj 2023 Correct Date: 14 या 15 नवंबर, भाईदूज की सही डेट क्या है? जानें तिलक लगाने का शुभ समय और विधि

भैया दोज पर टीका करने के मुहूर्त

तीसरा मुहूर्त

दोपहर 244 से बजे के बीच ( विषम परिस्थितियों मे ही मान्य)

दूसरा मुहूर्त

सुबह 1044 से दोपहर 12 बजे तक

सुबह से 930 बजे तक

भाई दूज कथा: स्कंदपुराण की कथा के अनुसार सूर्य और संज्ञा की दो संतानें थीं, एक पुत्र यमराज और एक पुत्री यमुना। यम ने पापियों को दण्ड दिया। यमुना हृदय की पवित्र थी और जब वह लोगों की समस्याओं को देखती थी तो दुखी होती थी, इसलिए वह गोलोक में रहने लगी। एक दिन अपनी बहन के घर जाने से पहले गोलोक में बहन यमुना ने भाई यमराज को भोजन के लिए बुलाया तो यम ने नरकवासियों को मुक्त कर दिया।

एक अन्य कहानी के अनुसार, राक्षस नरकासुर की हार के बाद भगवान कृष्ण अपनी बहन सुभद्रा से मिलने जा रहे थे और तभी से यह दिन भाई दूज के रूप में मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि सुभद्रा की तरह भाई के माथे पर तिलक लगाकर उसका सम्मान करने से भाई-बहन के बीच प्यार बढ़ता है। इस दिन यह भी मान्यता है कि भाई-बहन एक साथ यमुना में स्नान करते हैं। इस दिन अगर आप सच्चे दिल से अपने पापों की माफी मांगेंगे तो यमराज आपको माफ कर देंगे।

 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें