Become this yoga you will go into politics - बनें यह योग तो राजनीति में जाएंगे आप DA Image
12 दिसंबर, 2019|4:45|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बनें यह योग तो राजनीति में जाएंगे आप

बहुत से लोग समाज सेवा के लिए राजनीति को अच्‍छा माध्‍यम मानते हैं। सेवा करते-करते राजनीति का रुख कर लेते हैं। लेकिन राजनीति के योग सबके भाग्‍य में नहीं होते। ज्‍योतिषशास्‍त्र में कुंडली में राजनीति का योग होना अनिवार्य है। इसके लिए कुंडली में ग्रहों की अनुकूलता और योग को देखा जाता है। ज्‍योतिष विशेषज्ञ सुखविंदर सिंह के मुताबिक सफल राजनेताओं की कुण्डली में राहु का संबध छठे, सातवें, दशवें व ग्यारहवें घर से देखा जाता है। ज्‍योतिष में कुण्डली के दशवें घर को राजनीति का घर कहा जाता है। सत्ता में भाग लेने को दशमेश या दशम भाव में उच्च का ग्रह बैठा होना चाहिए और गुरु नवम में शुभ प्रभाव में स्थिति होने चाहिए। दशम घर या दशमेश का संबध सप्तम घर से होने पर व्यक्ति राजनीति में सफलता प्राप्त करता है। कुंडली में छठे घर को सेवा का घर कहते हैं। व्यक्ति में सेवा भाव होने के लिये इस घर से दशम/दशमेश का संबध होना चाहिए।

राहु को सभी ग्रहों में नीति कारक ग्रह का दर्जा दिया गया है। इसका प्रभाव राजनीति के घर से होना चाहिए। सूर्य को भी राज्य कारक ग्रह की उपाधि दी गई है। सूर्य का दशम घर में स्वराशि या उच्च राशि में होकर स्थित हो व राहु का छठे घर, दसवें घर व ग्यारहवें घर से संबध बने तो यह राजनीति में सफलता दिलाने की संभावना बनाता है। इस योग में दूसरे घर के स्वामी का प्रभाव भी आने से व्यक्ति अच्छा वक्ता बनता है। शनि दशम भाव में हो या दशमेश से संबध बनाये और इसी 10 वें घर में मंगल भी स्थिति हो तो व्यक्ति समाज के लोगों के हितों के लिये काम करने के लिये राजनीति में आता है।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

घर में लाएं चांदी का त्रिशूल, आपदाओं से होगी रक्षा

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Become this yoga you will go into politics