DA Image
28 फरवरी, 2020|10:23|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मध्य प्रदेश के जंगल में मगन होकर भजन सुनता है भालू परिवार

bhalu

मध्य प्रदेश के शहडोल जिले में घने जंगलों के बीच कुटिया बनाकर रहने वाले एक साधु के मधुर भजन का एक भालू परिवार इतना भक्त हो गया है कि वह चुपचाप भजन सुनता है और अंत में प्रसाद लेकर वापस जंगल में चला जाता है। मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की सीमा में जैतपुर वन परिक्षेत्र के अंतर्गत खड़ाखोह के जंगल में सोन नदी के समीप राजमाड़ा में सीताराम साधु 2003 से कुटिया बनाकर रह रहे हैं। साधु ने बताया कि जंगल में कुटिया बनाने के बाद उन्होंने वहां प्रतिदिन रामधुन के साथ ही पूजा-पाठ शुरू किया। एक दिन उन्होंने देखा कि दो भालू उनके पास बैठे हुए हैं और खामोशी से भजन सुन रहे हैं।
सीताराम ने बताया कि उस दिन से भजन के दौरान भालुओं के आने का जो सिलसिला शुरू हुआ तो वह आज तक जारी है। सीताराम का भालुओं से अपनापन इस तरह का हो गया है कि उन्होंने उनका नामकरण भी कर दिया है। उन्होंने बताया कि नर भालू को ‘लाला’ और मादा को ‘लल्ली’ के साथ ही शावकों को ‘चुन्नू’ और ‘मुन्नू’ नाम दिया है। वन विभाग के जेतपुर परिक्षेत्र के रेंजर सलीम खान ने भी भालुओं के वहां आने पुष्टि की है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:bear family find spiritual solace in bhajans