ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मपहला बड़ा मंगल: विधि विधान से हुआ हुआ बजरंग बली का पूजन

पहला बड़ा मंगल: विधि विधान से हुआ हुआ बजरंग बली का पूजन

bada mangal 2022 : ज्येष्ठ माह का पहला बड़ा मंगल श्रद्धा और सत्कार के साथ मनाया गया। शहर भर के मंदिरों में पूरे विधि विधान के साथ बजरंगबली का पूजन और आरती की गई। रात 12 बजे से ही भक्त बड़ी संख्या में मं

पहला बड़ा मंगल: विधि विधान से हुआ हुआ बजरंग बली का पूजन
Yogesh Joshiसंवाददाता,लखनऊTue, 17 May 2022 08:55 PM

ज्येष्ठ माह का पहला बड़ा मंगल श्रद्धा और सत्कार के साथ मनाया गया। शहर भर के मंदिरों में पूरे विधि विधान के साथ बजरंगबली का पूजन और आरती की गई। रात 12 बजे से ही भक्त बड़ी संख्या में मंदिर पहुंचकर मारुतिनंदन के दर्शन के लिए कतार में लग गए। अलीगंज हनुमान मंदिर, हनुमान सेतु आदि बजरंगबली के मंदिरों में दर्शन के लिए भक्तों की हुजूम उमड़ पड़ी।

पूर्व उप मुख्यमंत्री डॉ़ दिनेश शर्मा ने हनुमान सेतु मंदिर में लाइन में लगकर बजरंगबली के दर्शन किए। हनुमान जी को सब्जी- पूड़ी और बूंदी और हलवा का भोग लगाया। भक्तों ने हनुमान चालीसा, सुंदरकांड और बजरंगबाण का पाठ कर सुख समृद्धि की कामना की। पूरे दिन भक्तों का तांता लगा रहा। मंदिर हनुमान भक्तों के जयकारे से गूंज उठे।

बुधवार के ये उपाय आपको कर देंगे मालामाल, धन- हानि की समस्या से मिलेगा छुटकारा, बरसेगी गणपति बप्पा की अपार कृपा

दूसरा बड़ा मंगल 24 मई, तीसरा 31 मई, चौथा 7 जून और पांचवा व अंतिम बड़ा मंगल 14 जून को होगा।

हनुमान सेतु मंदिर रात 12 लग गई भक्तों की कतार

लखनऊ विश्वविद्यालय मार्ग स्थित हनुमान सेतु मंदिर में सोमवार रात 12 बजे से भक्तों की भीड़ जुटने लगी। मंगलाआरती के साथ मंदिर के कपाट खुले। मंगलवार को सुबह और शाम बजरंगबली की भव्य आरती हुई। भक्तों ने जय श्री राम और पवनसुत हनुमान के जयकारे लगाए। मंदिर के आचार्य चन्द्रकांत द्विवेदी ने कहा कि ज्येष्ठ माह के चारों बड़े मंगल पर बजरंगबली की अपने भक्तों पर खास कृपा होती है। सच्चे मन से प्रभु के दरबार में सिर झुकाने से संकटमोचन भक्तों के सारे संकट हर लेते हैं।

मन्दिर की ओर से करीब 75 हजार लड्डू बनवाए गए थे। मन्दिर आने वाले भक्तों को एक- एक लड्डू प्रसाद स्वरूप दिया गया।

अलीगंज नया हनुमान मंदिर: 36 घण्टे लगातार भक्तों ने किए दर्शन

अलीगंज हनुमान मंदिर में बजरंगबली का भव्य शृंगार हुआ। दिन भर में 11 बार चोला बदला गया। सोमवार दिन में 12 बजे मंदिर का खुला कपाट मंगलवार रात 12 बजे बंद हुआ। 36 घण्टे लगातार भक्तों ने दर्शन किए।

मंदिर के कार्यालय अधीक्षक राकेश दीक्षित ने बताया कि बजरंगबली को 2.5 कुंतल लड्डू, एक हजार कालाजाम, सब्जी- पूड़ी और हलवा का भोग लगाया गया। मंदिर में बड़ी संख्या में भक्तों ने प्रभु के दरबार पहुंचकर हाजिरी लगाई। मंदिर कमेटी की ओर से आयोजित भंडारे में तीन तरह की सब्जी- पूड़ी, रायता और बूंदी का प्रसाद वितरित किया गया।

Ekdant Sankashti Chaturthi 2022 : एकदन्त संकष्टी चतुर्थी कब है? नोट कर लें डेट. पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त और पूजन सामग्री की लिस्ट

कोनेश्वर महादेव मंदिर: 101 किलो बूंदी का भोग

चौक स्थित कोनेश्वर महादेव मंदिर में सुबह और शाम बजरंगबली की आरती हुई। सुबह पांच बजे से ही भक्त बजरगंबली के दर्शन के लिए पहुंचने लगे। बजरंगबली को 101 किलो बूंदी का भोग लगाया गया। कोनेश्वर महादेव प्रबंधक कमेटी के मंत्री अनिल कपूर ने बताया कि मंदिर कमेटी की ओर से मंदिर के बाहर भण्डारे का आयोजन हुआ। सुबह से लेकर शाम तक सब्जी पूड़ी का प्रसाद बांटा गया। शाम को भजन मण्डली की ओर से सुन्दरकाण्ड का पाठ हुआ।

पातालपुरी हनुमान मंदिर: 56 व्यंजन का भोग

पक्का पुल स्थित श्री अहिमर्दन पातालपुरी हनुमान मंदिर में बजरंगबली को सिंदूर का अभिषेक कर शृंगार किया गया। आरती उतारकर 56 व्यंजन का भोग अर्पित किया गया। सुबह- शाम बड़ी संख्या में भक्तों ने भगवान के दर्शन किए। सभी ने बजरंगबली की आराधना कर सुख- समृद्धि की कामना की। कोषाध्यक्ष रिद्धि किशोर गौड़ ने बताया कि सुबह से लेकर रात तक आयोजित भण्डारे में सब्जी- पूड़ी और रायता का प्रसाद वितरित किया गया।

दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर:

हजरतगंज में दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर में सुबह से भक्तों की काफी भीड़ रही। कोरोना महामारी के कारण करीब दो वर्षों से भंडारा नहीं हो सका था। सुबह मंदिर में कम लोग आये लेकिन नौ बजे के बाद लगातार दर्शन करने के लिए पहुंचने लगे। यह सिलसिला दोपहर 12 बजे तक चलता रहा।

उधर शाम छह बजे के बाद नरही, लालबाग, हुसैनगंज सहित शहर के दूरदराज से आये भक्तों की लाइन लग गई। मंदिर में सुंदरकांड का पाठ किया गया। मंदिर के बाहर समाजसेवियों ने भक्तों के लिए भंडारे और प्याऊ की व्यवस्था की।

epaper