ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologybaba neem karoli birthday date kainchi dham uttarakhand

Baba Neem Karoli : बाबा नीब करौरी महाराज जी का जन्मोत्सव आज, आडंबरों से हमेशा रहते थे दूर

बाबा नीब करौरी महाराज जी को हनुमान जी का अवतार कहा जाता है। बाबा नीब करौरी महाराज साधारण जीवन जीने में विश्वास रखते थे। बाबा नीब करौरी महाराज जी का असली नाम लक्ष्मी नारायण शर्मा था। 

Baba Neem Karoli : बाबा नीब करौरी महाराज जी का जन्मोत्सव आज, आडंबरों से हमेशा रहते थे दूर
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीWed, 20 Dec 2023 04:39 PM
ऐप पर पढ़ें

Baba Neem Karoli Birthday : मार्गशीर्ष माह में शुक्ल पक्ष की अष्टमी पर बाबा नीब करौरी महाराज जी का जन्म हुआ था। बाबा नीब करौरी का जन्म अकबरपुर, उत्तरप्रदेश में हुआ था। बाबा नीब करौरी महाराज जी का असली नाम लक्ष्मी नारायण शर्मा था। बाबा नीब करौरी महाराज जी को हनुमान जी का अवतार कहा जाता है। बाबा नीब करौरी महाराज साधारण जीवन जीने में विश्वास रखते थे। बाबा अपने पैर किसी को नहीं छूने देते थे। अगर कोई उनके पैर छूने की कोशिश करता तो वह उस व्यक्ति को श्री हनुमान जी महाराज के पैर छूने को कहते थे। बाबा रोजाना कई तरह की लीलाएं रच अपने भक्तों की मदद करते थे। बाबा ने 11 सितंबर, 1973 को वृंदावन में अपने शरीर का त्याग किया। बाबा नीब करौरी महाराज हमेशा कंबल ओड़ा करते थे। कैंची में आने वाले भक्त बाबा नीब करौरी महाराज को कंबल भी भेंट करते हैं। बाबा नीब करौरी के अलौकिक प्रसंग, मिरेकल आफ लव के अलावा अन्य कई किताबें बाबा पर लिखी जा चुकी हैं। 

2024 Horoscope : नववर्ष की शुरुआत होगी मंगलमय, सूर्य, बुध, गुरु, शुक्र,मंगल करेंगे इन 4 राशियों पर कृपा की बरसात

वैसे तो बाबा नीब करौरी महाराज जी के देश- दुनिया में कई मंदिर है, लेकिन इन सबमें सबसे अधिक महत्व उत्तराखंड के नैनीताल में स्थित कैंची धाम का है। कैंची धाम में लगने वाले 15 जून के मेले में बाबा के भक्तों का तांता लग जाता है। कैंची धाम की स्थापना स्वंय बाबा नीब करौरी महाराज ने की थी।

कैंची धाम- कैंची धाम नैनीताल से लगभग 65 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कैंची धाम से कोई भी खाली हाथ नहीं लौटता है। यहां पर मांगी गई हर मुराद को बाबा नीब करौरी महाराज पूरा करते हैं। पावन कैंची धाम की स्थापना 1964 में की गई थी। ऐसा कहा जाता है कि बाबा नीब करौरी महाराज 1961 में पहली बार कैंची धाम आए थे।बाबा नीब करौरी महाराज का पावन कैंची धाम चमत्कारों से भरा है। एप्‍पल के संस्‍थापक स्‍टीव जॉब्‍स, फेसबुक के संस्‍थापक मार्क जुकरबर्ग भी कैंची धाम आ चुके हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें