ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyAquarius Capricorn Pisces get special opportunity shani dev blessings On 24 February 2024 Magh Purnima

आने वाली 24 तारीख को shani dev भी बरसाएंगे कृपा, कुंभ, मकर, मीन वालों के लिए खास मौका

shani dev blessings: स्नान दान सहित पूर्णिमा तिथि का मन 24 फरवरी 2024 को होगा। इस दिन सूर्योदय पूर्व से लेकर सायं 5:56 बजे तक स्नान दान किया जा सकता है। 24 फरवरी 2024 के ही दिन एक माह से चल रहे माघ मा

आने वाली 24 तारीख को shani dev भी बरसाएंगे कृपा, कुंभ, मकर, मीन वालों के लिए खास मौका
Anuradha Pandeyज्योतिर्विद डॉ दिवाकर त्रिपाठी,नई दिल्लीThu, 22 Feb 2024 06:51 AM
ऐप पर पढ़ें

माघ शुक्ल पक्ष पूर्णिमा का मान 23 फरवरी 2024 को दिन में 3:01 बजे से आरंभ होकर 24 फरवरी 2024 की सायं काल 5:56 बजे तक होगा। इस कारण से व्रत की पूर्णिमा का मन 23 फरवरी 2024 को तथा स्नान दान सहित पूर्णिमा तिथि का मन 24 फरवरी 2024 को होगा। इस दिन सूर्योदय पूर्व से लेकर सायं 5:56 बजे तक स्नान दान किया जा सकता है। 24 फरवरी 2024 के ही दिन एक माह से चल रहे माघ मास स्नान का नियम संयम भी समाप्त होगा । संगम के पवित्र स्थल पर चल रहे माघ मेला अर्थात कल्पवास का समापन भी हो जाएगा।

 किन चीजों का करें दान
इसी दिन गंगा नदी अथवा किसी पवित्र सरोवर में स्नान करने के पश्चात दान करने का विशेष महत्व शास्त्रों में बताया गया है।  इस दिन स्नान आदि से निवृत होने के बाद तिल, कंबल, जूता, छाता, घी, गुड़, वस्त्र, चना तथा अन्न आदि का दान करना शुभ फल प्रदायक होता है। इस दिन गेहूं तथा गोदान का भी विशेष महत्व शास्त्रों में बताया गया है।

ऐसी मान्यता है कि माघ की पूर्णिमा तिथि को पवित्र नदी तथा सरोवर में स्नान करने के बाद करने से सभी प्रकार के पाप समाप्त हो जाते हैं तथा पुण्य की प्राप्ति होती है। माघी पूर्णिमा को व्रत रखकर सत्यनारायण भगवान की , भगवान श्री हरि विष्णु की, भगवान भोलेनाथ की, श्री हनुमान जी महाराज की पूजा आराधना के साथ-साथ चंद्रमा की पूजा आराधना करने का भी विधान शास्त्रों में प्राप्त होता है।
स्नान दान करने का अक्षय पुण्य
 इस दिन “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः” इस मंत्र का भी खूब जाप करना चाहिए। शास्त्रों की माने तो माघ की पूर्णिमा के दिन जगत के पालनहार श्री हरि विष्णु गंगा जल में निवास करते हैं। इसीलिए इस दिन स्नान दान करने का अक्षय पुण्य फल प्राप्त होता है। तथा माता लक्ष्मी अति प्रसन्न होती हैं। इस दिन गरीबों असहयों को भोजन तथा वस्त्र का दान करने से शनि जनित सभी प्रकार के दोषों का समापन होता है। इसलिए इस दिन  कुंभ, मकर, मीन वालों को भी खास उपाय कर लेने चाहिए।  पूर्णिमा तिथि के दिन चंद्रमा की विशेष आराधना करने से चंद्रमा से संबंधित सभी प्रकार के कष्ट समाप्त हो जाते हैं तथा मन को शांति मिलती है। 

इस दिन राशियों के अनुसार विभिन्न वस्तुओं का दान करके लाभ की प्राप्ति किया जा सकता है।

मेष :- हरी सब्जियों का हर वस्त्रो का तथा अन्न का दान करना चाहिए।

वृष :- पीले वस्त्र, पीला सरसों, चने की दाल तथा मसूर की दाल का दान करना उत्तम होता है।

मिथुन :- लाल मसूर की दाल पीला फल पीले वस्तुओं का दान तथा नीले पुष्प का दान करना चाहिए।

कर्क :- जूता, कंबल, छाता, नीला तथा काले वस्त्रो का दान करना चाहिए।

सिंह :- नीला वस्त्र, नीला पुष्प, नीलम तथा हरी सब्जियों का दान करना चाहिए।

कन्या :- गेहूं, लाल मसूर की दाल, तांबा, गुड आदि का दान करना चाहिए।

तुला :- पीला फल, पीला चंदन, पीतल, पीली सरसों तथा पीले कपड़ों का दान करना चाहिए।

वृश्चिक :- सुगंधित द्रव्य क्रीम कलर की वस्त्र तथा गोदान करना चाहिए।

धनु :- सफेद वस्त्र, मोती, दूध, चावल, चीनी तथा सफेद पुष्प का दान करना चाहिए।

मकर :- पीला सरसों, पीला फल, केला, पीतल, पीली मिठाई तथा पीले वस्त्रो का दान करना चाहिए।

कुंभ :- चावल, चीनी, दूध, सफेद चंदन, सफेद वस्त्र, मोती तथा चांदी का दान करना शुभ दायक होता है।

मीन :- गेहूं, कांसा, अन्न, वस्त्र, गुड, तेल तथा नीले वस्त्रो का दान करना चाहिए।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें