DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

12 सितंबर को है अनंत चतुर्दशी, पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व और विधि भी जान लें

हिंदू पंचाग के अनुसार भाद्रपद के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को अनंत चतुर्दशी मनाई जाती है। अनंत चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु के अनेक रूपों की विशेष रूप से पूजा की जाती है।  भगवान विष्णु का दूसरा नाम अनंत देव है। इस साल अनंत चतुर्दशी का व्रत 12 सितंबर यानी गुरुवार को रखा जाएगा।

अनंत चतुर्दशी के दिन भगवान विष्णु की पूजा के साथ गणेश जी का विसर्जन होने से इस दिन का महत्व और बढ़ जाता है। गणेश चतुर्थी के 10वें दिन बाद 11वें दिन अनंत चतुर्दशी आती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस व्रत को 14 साल तक लगातार रखने पर मनुष्य को विष्णु लोक की प्राप्ति हो जाती है।

अनंत चतुर्दशी (Anant Chaturdashi)शुभ मुहूर्त- 
अनंत चतुर्दशी की तिथि: 12 सितंबर 2019
चतुर्दशी तिथि प्रारंभ: 12 सितंबर  2019 को सुबह 05 बजकर 06 मिनट से 
चतुर्दशी तिथि समाप्‍त: 13 सितंबर को सुबह 07 बजकर 35 मिनट तक

अनंत चर्तुदशी पूजा का मुहूर्त-
12 सितंबर को सुबह 06 बजकर 13 मिनट से 13 सितंबर की सबुह 07 बजकर 17 मिनट तक

अनंत चतुर्दशी की पूजा विधि- 
अग्नि पुराण में अनंत चतुर्दशी के महात्‍म्‍य का वर्णन किया गया है। इस खास दिन भगवान विष्‍णु के अनंत रूप की पूजा की जाती है।  
- सबसे पहले स्‍नान करने के बाद स्‍वच्‍छ वस्‍त्र धारण करके इस व्रत का संकल्‍प लें।
- इसके बाद मंदिर में कलश स्‍थापना करें। भगवान विष्णु की तस्वीर लगाएं।
-अब एक डोरी को कुमकुम, केसर और हल्दी से रंगकर इसमें 14 गांठें सगा लें। अब इसे भगवान विष्णु जी को चढ़ाकर पूजा शुरू करें।
-इस दिन पूजा करते समय इस मंत्र का जाप करें-
अनंत संसार महासुमद्रे मग्रं समभ्युद्धर वासुदेव।
अनंतरूपे विनियोजयस्व ह्रानंतसूत्राय नमो नमस्ते।।

-इसके बाद पूजा के पुरुष सूत्र को अपने दाएं हाथ के बाजू और महिलाएं बाएं हाथ के बाजू पर बांध लें। सूत्र बांधने के बाद यथा शक्ति ब्राह्मण को भोज कराएं और प्रसाद ग्रहण करें।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Anant Chaturdashi 2019 vrat date time pooja subh muhurat ganesh visarjan
Astro Buddy