DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Anant chaturdashi 2019: अनंतसूत्र के 14 गांठ 14 लोकों के हैं प्रतीक

lord vishnu

अनंत चतुर्दशी के पावन पर्व पर सृष्टि के पालनहार भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना की जाती है। इस दिन पूजा के साथ 14 गांठ वाला अनंत सूत्र बांधते हैं। यह कहा जाता है कि अनंतसूत्र के 14 गांठ 14 लोकों का प्रतीक होती हैं। यह भी मान्यता है कि जो 14 सालों तक लगातार अनंत चतुर्दशी का व्रत रखता है उसे विष्णु लोक की प्राप्ति होती है।  अनन्त सूत्र को पुरुष दाहिने और महिलाएं बाएं हाथ में बांधती हैं।

Anant chaturdashi 2019: ये है गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी पूजा मुहूर्त

भगवान विष्णु की महिमा बताते हुए गोस्वामी तुलसीदास जी ने लिखा है कि ‘हरि अनंत जेहि कथा अनंता... यानी भगवान श्री हरि अनंत हैं, उनकी कथा और महिमा भी अनंत है। उन्हीं अनंत भागवान की अनंत चतुर्दशी के दिन पूजा की जाती है।

इस व्रत का जिक्र पुराणों में भी मिलता है,  जब पांडव जुए में अपना सारा राजपाट हारकर वन में कष्ट भोग रहे थे तब भगवान श्रीकृष्ण ने अनंत चतुर्दशी व्रत करने की सलाह दी थी। पांडव विधि-विधान से व्रत कर अनंत सूत्र धारण किए थे। अनंत चतुर्दशी व्रत के प्रभाव से पांडव सब कष्टों से मुक्त हो गए। अनंत पूजा के लिए 12 सितंबर को प्रात: सात बजे से दोपहर 12 बजे तक शुभ मुहूर्त है।

Anant chaturdashi: आज है अनंत चतुर्दशी, गणेश विसर्जन भी आज, पढ़ें आज का पंचांग

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Anant chaturdashi 2019: 14 gaanth of Anantasutra prateek hain 14 lokon ka
Astro Buddy