ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrologyamavasya december 2023 date and time puja vidhi shubh muhurat

Amavasya Kab Hai : दिसंबर में कब है अमावस्या? नोट कर लें डेट, पूजा- विधि और शुभ मुहूर्त

Amavasya Date : हर माह में एक बार अमावस्या तिथि पड़ती है। इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण भी किया जाता है। अमावस्या तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व होता है।

Amavasya Kab Hai : दिसंबर में कब है अमावस्या? नोट कर लें डेट, पूजा- विधि और शुभ मुहूर्त
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSat, 02 Dec 2023 06:48 PM
ऐप पर पढ़ें

Amavasya 2023 Date : हिंदू धर्म में अमावस्या का बहुत अधिक महत्व होता है। अमावस्या तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा की जाती है। हर माह में एक बार अमावस्या तिथि पड़ती है। इस दिन पितरों की आत्मा की शांति के लिए तर्पण भी किया जाता है। अमावस्या तिथि पर पवित्र नदियों में स्नान का विशेष महत्व होता है। नदी में स्नान के बाद सूर्य को अर्घ्य देकर पितरों का तर्पण किया जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, अमावस्या के दिन महिलाएं पति की लंबी आयु की कामना के लिए व्रत रखती हैं। आइए जानते हैं मार्गशीर्ष अमावस्या की डेट, पूजा- विधि, शुभ मुहूर्त...

मार्गशीर्ष अमावस्या डेट- 13 दिसंबर, 2023,  मंगलवार

मुहूर्त- 

  • मार्गशीर्ष, कृष्ण अमावस्या प्रारम्भ - 06:24 ए एम, दिसम्बर 12
  • मार्गशीर्ष, कृष्ण अमावस्या समाप्त - 05:01 ए एम, दिसम्बर 13

पूजा- विधि

  • सुबह जल्दी उठकर स्नान करें। इस दिन पवित्र नदी या सरवोर में स्नान करने का महत्व बहुत अधिक होता है। आप घर में ही नहाने के पानी में गंगाजल मिलाकर भी स्नान कर सकते हैं। 
  • स्नान करने के बाद घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • सूर्य देव को अर्घ्य दें।
  • अगर आप उपवास रख सकते हैं तो इस दिन उपवास भी रखें।
  • इस दिन पितर संबंधित कार्य करने चाहिए। 
  • पितरों के निमित्त तर्पण और दान करें। 
  • इस पावन दिन भगवान का अधिक से अधिक ध्यान करें।
  • इस पावन दिन भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व होता है।
  • इस दिन विधि- विधान से भगवान शंकर की पूजा- अर्चना भी करें।

कर्क, वृश्चिक, मकर, कुंभ, मीन वालों के लिए बेहद महत्वपूर्ण है आने वाला साल, जीवन में होंगे अहम बदलाव

करें ये उपाय- 

पितृ दोष दूर करने का उपाय

  • इस दोष से मुक्ति के लिए अमावस्या के दिन पितर संबंधित कार्य करने चाहिए। पितरों का स्मरण कर पिंड दान करना चाहिए और अपनी गलतियों के लिए माफी भी मांगनी चाहिए।

गाय को भोजन कराएं

  • इस दिन गाय को भोजन अवश्य कराएं। इस बात का ध्यान रखें कि आपको गाय को सात्विक भोजन ही करवाना है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार गाय को भोजन कराने से पितृ दोष दूर हो जाता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें