DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  अक्षय तृतीया: 15 मई सुबह सात बजे तक रहेगा शुभ मुहूर्त

पंचांग-पुराणअक्षय तृतीया: 15 मई सुबह सात बजे तक रहेगा शुभ मुहूर्त

लाइव हिन्दुस्तान टीम,मेरठPublished By: Yuvraj
Thu, 13 May 2021 11:57 PM
अक्षय तृतीया: 15 मई सुबह सात बजे तक रहेगा शुभ मुहूर्त

शास्त्रों के अनुसार अक्षय तृतीया सर्वसिद्ध अबूझ मुहूर्त तिथि है और मांगलिक कार्यों के लिए अति शुभ है। इस दिन विवाह, गृह प्रवेश आदि शुभ कार्य करने के लिए तिथि मुहूर्त आदि निकलवाने की जरूरत नहीं होती। साथ ही परंपरा है कि इस दिन सोना खरीदने से समृद्धि आती है। इस बार अक्षय तृतीया 14 मई (शुक्रवार) की पड़ रही है और शुभ मुहूर्त 15 मई की सुबह सात बजे तक जारी रहेगा।

ज्योतिषाचार्य पं. नीरज शास्त्री साहित्याचार्य ने बतया कि अक्षय तृतीया को शुभ मुहूर्त माना गया है। अक्षय तृतीया अपने नाम के अनुरूप शुभ फल प्रदान करती है और अक्षय तृतीया पर सूर्य व चंद्रमा अपनी उच्च राशि में रहते हैं। उन्होंने बताया कि वैशाख के समान कोई मास नहीं है। इस दिन भगवान की प्रार्थना करके हम अपने जीवन की हर समस्या से मुक्ति पा सकते हैं। अक्षय तृतीया का शुभ मुहूर्त 14 मई 2021 को सुबह 5.38 बजे से शुरू होने के बाद 15 मई की सुबह 7.59 बजे तक जारी रहेगा।

किस राशि वाले क्या करें खरीदारी
मेष:- तांबे और सोने से बनी वस्तुएं
वृषभ:-चांदी के सिक्के या चांदी की वस्तुएं
मिथुन:- चांदी के आभूषण एवं नए वस्त्र
कर्क:- चांदी और फूल धातु के बर्तन
सिंह:- स्वर्ण के आभूषण
कन्या:- चांदी के सिक्के और स्टील के बर्तन
तुला:- चांदी के सिक्के लें
वृश्चिक:-तांबे का पात्र और सोने के आभूषण
धनु:-स्वर्ण आभूषण
मकर:-चांदी के सिक्के या गहने
कुंभ:- सोने के आभूषण खरीदकर पत्नी को दें
मीन:-आभूषण के साथ घरेलू सामान

यह है मान्यता
पंडित नीरज शास्त्री के अनुसार अक्षय तृतीया अबूझ मुहूर्त है। इसदिन बिना सोच विचार किये ही शुभ कार्य किये जा सकते हैं। इस दिन से अनेक कहानियां जुड़ीं हैं। इसी दिन भगवान विष्णु के छठे अवतार परशुराम की जयंती के साथ भगवान विष्णु का नर नारायण अवतार भी इसी दिन हुआ था। मान्यता त्रेता युग का आरंभ भी इसी दिन हुआ था।

किसी भी दान का विशेष महत्व
ज्योतिषाचार्य ने बताया कि अक्षय तृतीय पर दान का बहुत महत्व है। इस दिन किए गए दान, स्नान, जप आदि मिलने वाला पुण्य भी अक्षय ही रहता है। उसमें भी कन्यादान करना तो अतिशुभ माना जाता है। इसलिए इस दिन बिना मुहूर्त भी शादी कर दी जाती है। 

संबंधित खबरें