Hindi Newsधर्म न्यूज़Akshaya Tritiya 2024 Kab Hai : DATE shubh muhurat poojavidhi and dos and donts of akshaya tritiya

Akshaya Tritiya 2024 puja : 4 दुर्लभ संयोग में अक्षय तृतीया,जानें खरीदारी का शुभ मुहूर्त, पूजाविधि,इस दिन क्या करें-क्या नहीं?

Akshaya Tritiya 2024 Kab Hai : हर साल वैशाख माह के शुक्ल पक्ष की त-तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया मनाया जाता है। इस दिन सोना-चांदी की खरीदारी, पूजा-पाठ और दान-पुण्य के कार्य बेहद शुभ होते हैं।

Arti Tripathi लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीFri, 10 May 2024 07:26 AM
हमें फॉलो करें

Akshaya Tritiya Shubh Sanyog : सनातन धर्म में अक्षय तृतीया किन सोने-चांदी की खरीदारी के कार्य बेहद शुभ माने जाते हैं। इस विशेष दिन धार्मिक और मांगलिक कार्यों के अबूझ मुहूर्त होता है। दृक पंचांग के अनुसार, इस साल 10 मई 2024 को 3 दुर्लभ संयोग  में अक्षय तृतीया मनाई जाएगी। जिससे इस दिन का सोने-चांदी की खरीदारी, दान-पुण्य और धार्मिक कार्यों का कई गुना ज्यादा शुभ फल प्राप्त होंगे। अक्षय तृतीया के दिन बुध ग्रह मेष राशि में गोचर करेंगे। चंद्रमा और गुरु वृषभ राशि में गजकेसरी राजयोग बनाएंगे। सूर्य-बुध की युति से बुधादित्य राजयोग बनेगा। साथ ही शनिदेव मूल त्रिकोण राशि में शश योग का निर्माण करेंगे। आइए जानते हैं अक्षय तृतीया पर खरीदारी का शुभ मुहूर्त, पूजाविधि और इस दिन क्या करना चाहिए-क्या नहीं?

अक्षय तृतीया का शुभ मुहूर्त : दृक पंचांग के अनुसार, 10 मई को सुबह 4 बजकर 16 मिनट पर अक्षय तृतीया की शुरुआत होगी और अगले दिन यानी 11 मई 2024 को प्रातः काल 2 बजकर 51 मिनट पर समाप्त होगा। इसलिए उदयातिथि के अनुसार, 10 मई को अक्षय तृतीया है।

सोने की खरीदारी का उत्तम मुहूर्त :

पहला मुहूर्त :सुबह 8: 55 एएम से लेकर 10:36 एएम तक रहेगा।

दूसरा मुहूर्त : दोपहर 12:16 पीएम से लेकर 4:56 पीएम मिनट तक रहेगा।

तीसरा मुहूर्त : शाम 4:56 पीएम से रात्रि 9:32 पीएम मिनट तक रहेगा।

पूजनविधि :

अक्षय तृतीया के दिन सुबह जल्दी उठें।
स्नानादि के बाद पीले वस्त्र धारण करें।
भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा करें।
उनके समक्ष धूप-दीप और नेवैद्य अर्पित करें।
इसके बाद विष्णु सहस्त्रनाम या विष्णु चालीसा का पाठ करें।
अंत में विष्णुजी जी, मां महालक्ष्मी समेत सभी देवी-देवताओं की आरती उतारें।
जरूरतमंदों और गरीबों को अपने क्षमतानुसार अन्न, धन का दान करें और भोजन कराएं।

अक्षय तृतीया पर क्या  करें ?

अक्षय तृतीया के दिन श्रीहरि विष्णु और मां लक्ष्मी की विधिवत पूजा करना चाहिए।
इस दिन विष्णु सहस्त्रनाम और श्रीसूक्त या रामरक्षा स्त्रोत का पाठ करना शुभ होता है।
अक्षय तृतीया के दिन पितरों के नाम से दान-पुण्य के कार्य मंगलकारी माने गए हैं।
अगर संभव हो, तो इस शुभ दिन पर गंगाजल में स्नान कर सकते हैं।
नए व्यापार की शुरुआत और गृह-प्रवेश के लिए अक्षय तृतीया का दिन उत्तम माना गया है।
धन-दौलत में वृद्धि के लिए अक्षय तृतीया पर एकाक्षी नारियल को लाल कपड़े में बांधकर तिजोरी में रख सकते हैं।

इस दिन क्या न करें ?

मान्यता है कि अक्षय तृतीया से भवन निर्माण कार्य नहीं शुरू करना चाहिए।
विष्णुजी को तुलसी अतिप्रिय है, लेकिन अक्षय तृतीया के दिन तुलसी का पत्ता नहीं तोड़ना चाहिए।
इस शुभ दिन तामसिक भोजन के सेवन की मनाही होती है। इसलिए मांस-मदिरा का सेवन बिल्कुल न करें।
अक्षय तृतीया के दिन घर में गंदगी न फैलने दें। इस दिन साफ-सफई का खास ध्यान रखें।
अक्षय तृतीया के दिन सोने या चांदी की खरीदारी करना बेहद शुभ होता है। इस शुभ मौके पर अपने सामर्थ्य अनुसार सोना-चांदी या तांबे का बर्तन और कौड़ी खरीद सकते हैं।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ऐप पर पढ़ें