ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News Astrology5 Rajyoga on Diwali after years note down puja time and Puja Samagri

Diwali : सालों बाद दिवाली पर 5 राजयोग का दुर्लभ संयोग, नोट कर लें संध्या पूजा मुहूर्त और सामग्री लिस्ट

Diwali 2023 Muhurat: दीपावली पर बड़े धूम से हर घर में मां लक्ष्मी का आगमन होने जा रहा है। इस बार राजयोग के निर्माण से लक्ष्मी पूजन अति फलदायक और पुण्यदायक माना जा रहा है।

Diwali : सालों बाद दिवाली पर 5 राजयोग का दुर्लभ संयोग, नोट कर लें संध्या पूजा मुहूर्त और सामग्री लिस्ट
Shrishti Chaubeyलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीSun, 12 Nov 2023 02:42 PM
ऐप पर पढ़ें

Diwali 2023: इस साल रविवार के दिन 12 नवंबर को दिवाली का पावन त्यौहार बड़े ही धूमधाम के साथ मनाया जाएगा। सभी लोग कल मां लक्ष्मी का पूरी श्रद्धा भाव के साथ स्वागत करेंगे। वहीं, कई सालों के बाद इस बार दिवाली पर पांच राजयोग बनने जा रहे हैं, जिस वजह से इस बार की दिवाली बेहद ही खास मानी जा रही है। हर साल कार्तिक महीने की अमावस्या तिथि के दिन ही दिवाली मनाई जाती है। इस बार राजयोग में दिवाली पड़ने वाली है। शुभ मुहूर्त में इस बार लक्ष्मी पूजन करना ही बेहद पुण्यदायक रहेगा। इसलिए आइए जानते हैं दिवाली के दिन लक्ष्मी पूजन का सबसे उत्तम मुहूर्त और सामग्री लिस्ट-

5 राजयोग में दिवाली
इस बार कई सालों के बाद दिवाली पर एक नहीं बल्कि पांच राजयोगों का निर्माण होने वाला है। इस बार की दिवाली बहुत ही महत्वपूर्ण मानी जा रही है। चंद्रमा, बुध, गुरु और शुक्र ग्रहों की स्थिति के कारण दिवाली पर पांच राजयोगों का शुभ संयोग बनेगा। वहीं, सौभाग्य योग और आयुष्मान योग के साथ शनि अपनी स्वराशि में विराजमान रहकर शश महापुरुष राजयोग बना रहे हैं। 

दिवाली लक्ष्मी पूजन शुभ मुहूर्त 
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: शाम 05 बजकर 40 मिनट-शाम 07 बजकर 35 मिनट तक। 
अवधि: 01 घंटा 53 मिनट 
प्रदोष काल- 05:29 से 08:06 तक
वृषभ काल- 05:40 से 07:35 तक

दिवाली महानिशीथ काल पूजा मुहूर्त
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त- 11:39 से 12:30 तक
अवधि- 52 मिनट

दिवाली शुभ चौघड़िया पूजा मुहूर्त
अपराह्न मुहूर्त (शुभ)- 01:26 से 02:46 तक
सायंकाल मुहूर्त (शुभ, अमृत, चल)- 05:29 से 10:25 तक
रात्रि मुहूर्त (लाभ)- 01:44 से 03:22 तक
उषाकाल मुहूर्त (शुभ)- 05:02 से 06:40 तक

दिवाली पूजन सामग्री 
 घी
पान
लौंग
रोली
फूल 
फल 
दूर्वा 
कपूर
जनेऊ
सुपारी
कलावा
धूपबत्ती
पंचामृत
कुमकुम 
गंगाजल
खील बताशे 
लाल कपड़ा
घी का दीपक
हल्दी की गांठ
लकड़ी की चौकी
लक्ष्मी-गणेश मूर्ति

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें