DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सूरत: 12 साल की उम्र में बच्ची ने ली जैन दीक्षा, बनी संन्यासी

khushi shah surat gujarat

'इस दुनिया की जितनी भी खुशियां हैं वो स्थायी नहीं हैं, सिर्फ साधारण जीवन जीने से ही शांति और मोक्ष मिल सकता है' यह कहना है सूरत में रहने वाली 12 साल की बच्ची खुशी का। खुशी शाह ने जिंदगी के ऐशो आराम छोड़कर जैन दीक्षा ले ली है। बुधवार को उन्हें जैन दीक्षा दिलाई गई।

खुशी के घर में वो अकेली ऐसी नहीं हैं जिसने दीक्षा ली हो। इससे पहले उनके परिवार में चार लोग भी जैन दीक्षा ले चुके हैं। खुशी बताती हैं कि जब मैं चार साल की थी तो परिवार के चार लोगों ने भी जैन दीक्षा ले ली थी। 

खुशी के पिता विनीत शाह एक सरकारी कर्माचारी हैं। उनका कहना है कि यह हमारे लिए एक गर्व का विषय है। एक बार संत बन जाने के बाद वह कई लोगों के जीवन में उजाला करेगी।  खुशी ने छठी क्लास में 97 फीसदी अंक मिले हैं और उसने नवंबर में स्कूल छोड़ दिया है। उनके पिता बताते हैं कि खुशी हजारों किमी अकेले पैदल चलकर पूरी कर चुकी है और दीक्षा के बाद की जिंदगी को काफी करीब से देख चुकी है। 


 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:12 yr-old Surat girl to become Jain monk today
Astro Buddy