जिंदगी बदल देता है शुक्र, जानिए कैसे

कुंडली में शुक्र को बहुत ही महत्‍वपूर्ण ग्रह माना गया है। यह सुख-समृद्धि और विलासिता का ग्रह है। जानिए शुक्र ग्रह किस स्थिति में अच्छे परिणाम देता है और किसमें नहीं।  अगर शुक्र कुंडली...

file phoo
Praveen विभोर इंदुसुत , मेरठ Mon, 13 April 2020 02:43 PM
हमें फॉलो करें

कुंडली में शुक्र को बहुत ही महत्‍वपूर्ण ग्रह माना गया है। यह सुख-समृद्धि और विलासिता का ग्रह है। जानिए शुक्र ग्रह किस स्थिति में अच्छे परिणाम देता है और किसमें नहीं। 

  • अगर शुक्र कुंडली में लग्न में स्थित हो तो यह व्यक्ति को बहुत उच्च महत्वकांक्षी बनाता है और ऐसा व्यक्ति बड़े लक्ष्यों और विलासितापूर्ण जीवन की इच्छा रखने वाल होता है।
  • अगर कुंडली में शुक्र स्व या उच्च राशि (वृष तुला मीन) में हो तो ऐसे में जीवन में अच्छी धन समृद्धि और सभी भौतिक सुख सुविधाओं की प्राप्ति होती है।
  • शुक्र अगर वृष तुला या मीन राशि में होकर केंद्र भाव (पहला चौथा सातवा दसवां) में हो तो इससे माल्वय योग बनता है जिन लोगों की कुंडली में ये योग होता है उन्हें वैभवपूर्ण जीवन की प्राप्ति होती है।
  • अगर शुक्र कुंडली में नीच राशि (कन्या) में हो सूर्य से अस्त हो आठवें भाव में हो या केतु के साथ होने से पीड़ित हो तो ऐसे में जीवन में आर्थिक उन्नति नहीं हो पाती और व्यक्ति अपने आर्थिक पक्ष को लेकर हमेशा परेशान रहता है।
  • अगर शुक्र कुंडली में छटे या आठवें भाव में हो या नीच राशि में हो तो ऐसे में शुगर की समस्या (डायबटीज) होने की ज्यादा संभावनाएं होती हैं इसलिए ऐसे व्यक्तियों को शुगर पर विशेष नियंत्रण रखना चाहिए।
  • अगर कुंडली में शुक्र और चन्द्रमा का योग हो तो ऐसे में व्यक्ति विलासिताप्रिय और वैभवपूर्ण जीवन की और आकर्षित रहने वाल होता है और ये योग जीवन में अच्छी धन समृद्धि भी देता है।
  • जिन लोगों की कुंडली में शुक्र मजबूत होता है उन्हें क्रिएटिव फील्ड्स में अच्छी सफलता मिलती है।
  • अगर कुंडली में शुक्र मजबूत हो तो ऐसे में रेडीमेड गारमेंट्स, ब्यूटी प्रोडक्ट्स, कॉस्मेटिक्स, डेकोरेटिव आइटम्स, रेस्टोरेंट, जैम स्टोन्स का काम ये सभी काम करना लाभदायक होते हैं। (बशर्ते कुंडली में बिजनेस के भी अच्छे योग हों)
  • जिन पुरुषों की कुंडली में शुक्र दशम भाव में हो भाग्य स्थान में हो, दशम भाव या भाग्यस्थान को देखता हो या फिर शुक्र ही दशमेश और भाग्येश हो तो ऐसे पुरुषों का विशेष भाग्योदय उनके विवाह के बाद होता है उनकी पत्नी उनके लिए बहुत भाग्यशाली होती है।
  • अगर कुंडली में शुक्र राहु का योग हो तो ये जीवन में लव मैरिज की संभावनाएं बनाता है।
  • कुंडली में शुक्र और शनि का योग होने पर भी क्रिएटिव फील्ड्स (रचनात्मक कलात्मक क्षेत्र) में सफलता मिलती है।
  • अगर शुक्र कुंडली में बारहवें भाव में हो तो ये भी जीवन में बहुत अच्छी समृद्धि देता है।
  • जिन पुरुषों की कुंडली में शुक्र कमजोर होता है उनका विवाह होने में बहुत अड़चनें आती हैं और वैवाहिक जीवन में भी तनाव बढ़ता है। ऐसे लोगों को शुक्र के उपाय अवश्य करने चाहिए।
  • जो व्यक्ति स्त्रियों का सम्मान और उनके प्रति सदैव अच्छा व्यवहार रखते हैं उन्हें शुक्र हमेशा अच्छे परिणाम देता है।
  • जिन लोगों की कुंडली में शुक्र कमजोर या पीड़ित हो ऐसे लोगों को अपने जीवन में जब भी अवसर मिले गरीब कन्या के विवाह में अपनी सामर्थ्य के अनुसार आर्थिक सहायता अवश्य करनी चाहिए ये ऐसे लोगों के लिए बहुत शुभ होता है।

(ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।) 
 

ऐप पर पढ़ें