DA Image
28 मार्च, 2020|3:19|IST

अगली स्टोरी

जानिए, कब और कैसे चलती है शनि की साढेसाती, ढैय्या

न्याय के देवता माने जो वाले शनि माघ महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि यानी 24 जनवरी को 2020 को दोपहर 12:10 बजे धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश कर जाएंगे। 30 साल बाद शनि स्वराशि मकर राशि में प्रवेश करने जा रहे हैं। ज्‍योतिष में माना जाता है कि शनि बहुत धीमी गति से चलते हैं। शनि एक राशि में लगभग ढाई साल तक वास रहते हैं। शनि के राशि परिवर्तन से साढ़ेसाती आरंभ मानी जाती है।

ऐसे में शनि के एक राशि में ढाई साल तक समय बिताने और सभी 12 राशियों का एक चक्कर लगाने में लगभग 30 साल का समय लग जाता है। जैसे कि इस समय शनि धनु राशि में गोचर है अब दोबारा धनु राशि में आने के लिए शनि को 30 वर्षों का समय लगेगा।
शनि के किसी एक राशि में गोचर होने से सात राशियों पर इसका प्रभाव पड़ता है। तीन राशियों पर शनि की साढ़ेसाती चढ़ती है। दो राशियों पर शनि की ढैय्या लगती है और अन्य दो राशियों पर शनि की नजर हमेशा लगी रहती है। शनि ग्रह की एक राशि में मंद चाल से किसी व्यक्ति के पूरे जीवन में औसतन दो से तीन बार साढ़ेसाती लग सकती है।
जब शनि का गोचर किसी एक राशि में होता है तो शनि उस राशि में ढाई साल तक रहते हैं। ढाई साल के बाद ही शनि का राशि परिवर्तन दूसरी राशि में होता है। ज्योतिषियों के मुताबिक चंद्र राशि से जब शनि 12 वें भाव, पहले भाव या द्वितीय भाव से निकलते हैं तो उस अवधि को शनि की साढ़े साती माना जाता है।
शनि जिस राशि में गोचर करते हैं तो राशि क्रम के हिसाब से उस राशि के आगे और पीछे वाली राशि पर भी अपना असर डालते हैं। इस तरह से शनि एक राशि पर साढ़े सात साल तक रहते हैं। इस साढ़े सात साल के समय को ही शनि की साढ़ेसाती कहा गया है। फिर जैसे-जैसे शनि आगे बढ़ता है साढ़ेसाती उतरती जाती है।
शनि जब गोचर में जन्म राशि से चतुर्थ और अष्टम भाव में रहता है तब इसे शनि की ढैय्या कहते है। शनि की ढैय्या एक राशि पर साढ़े सात साल और दूसरी पर लगभग 16 साल में आती है। शनि के ढैय्या किसी राशि पर इसको पता लगाने के लिए शनि जिस राशि में रहता है उससे क्रम अनुसार पहले की चौथी और बाद वाली छठी राशि पर शनि की ढैय्या रहती है।

(ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

Vasant Panchami‬ 2020: बसंत पंचमी पर सर्वार्थसिद्धि योग, गूंजेगी शहनाई

 

 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Know when and how Saturn curse dhaiya