Image Loading in the horoscope there is chandras fault then surely keep pradosha fast - Hindustan
शनिवार, 25 नवम्बर, 2017 | 16:50 | IST
खोजें
ब्रेकिंग
  • स्पोर्ट्स स्टार: IPL 10 में कैप के लिए बल्लेबाजों में रोचक जंग, भुवी पर्पल कैप की दौड़...
  • बॉलीवुड मसाला: 'बाहुबली 2' की कमाई तो पढ़ ली, अब जानें स्टार्स की सैलरी। यहां पढ़ें,...
  • IPL 10 #DDvSRH: जीत के ट्रैक पर लौटी दिल्ली डेयरडेविल्स, हैदराबाद को 6 विकेट से हराया
  • IPL 10 #DDvSRH: 5 ओवर के बाद दिल्ली का स्कोर 46/1, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: हैदराबाद ने दिल्ली को दिया 186 रनों का टारगेट, युवराज ने जड़ी फिफ्टी
  • IPL 10 #DDvSRH: 16 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 126/3, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • IPL 10 #DDvSRH: 10 ओवर के बाद हैदराबाद का स्कोर 83/2, लाइव कमेंट्री और स्कोरकार्ड के लिए यहां...
  • Funny Reaction: प्रियंका की ड्रेस पर हुई 'दंगल की कुश्ती', लोगों ने यूं लिए मजे, पढ़ें...
  • स्टेट न्यूज़ : पढ़िए, राज्यों से अब तक की 10 बड़ी ख़बरें
  • स्पोर्ट्स स्टार: रोहित शर्मा का कमाल, आईपीएल में ऐसा करने वाले बने चौथे...
  • बॉलीवुड मसाला: 'भल्लाल देव' का खुलासा- इसलिए बताई एक आंख से ना देख पाने की बात।...
  • टॉप 10 न्यूजः पढ़ें सुबह 9 बजे तक देश-दुनिया की बड़ी खबरें एक नजर में
  • हेल्थ टिप्सः आसपास सोने वालों की नहीं होगी नींद खराब, ऐसे लगेगी खर्राटों पर लगाम
  • हिन्दुस्तान ओपिनियनः पढ़ें वरिष्ठ तमिल पत्रकार एस श्रीनिवासन का लेख- तमिल...
  • मौसम दिनभरः दिल्ली-एनसीआर, लखनऊ, पटना में रहेगी तेज धूप। देहरादून और रांची में...

कुंडली में है चंद्र दोष तो जरूर रखें प्रदोष व्रत 

लाइव हिन्दुस्तान टीम  First Published:08-05-2017 03:51:16 AMLast Updated:08-05-2017 03:35:23 PM
कुंडली में है चंद्र दोष तो जरूर रखें प्रदोष व्रत 

हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत को सबसे शुभ व्रतों में से एक माना जाता है। कहा जाता है कि इस व्रत में भगवान शिव की उपासना में शामिल होने के लिए सभी देवी-देवता पृथ्वी पर आते हैं। अपने अक्ष पर जब सूर्य व चंद्रमा एक क्षैतिज रेखा में होते हैं, उस समय को प्रदोष काल कहा जाता है। ज्योतिष विज्ञान के मुताबिक जिस व्यक्ति की कुंडली में चंद्र दोष होता है, उसे प्रदोष व्रत जरूर रखना चाहिए। चंद्र दोष मन अशांत और अनेक रोगों का कारण बनता है।

प्रदोष के दिन भगवान शिव की आराधना करने से भक्तों के समस्त पाप मिट जाते हैं। शास्त्रों के अनुसार इस व्रत को रखने वाला मोक्ष मार्ग पर आगे बढ़ता है। सोमवार के दिन त्रयोदशी आने पर किया जाने वाला व्रत आरोग्य प्रदान करता है। प्रदोष काल में मौन रहना चाहिए। इस व्रत में आहार नहीं लिया जाता है। पूरे दिन व्रत रखने के बाद सूर्यास्त से एक घंटा पहले, स्नान आदि कर श्वेत वस्त्र धारण करने चाहिए। ऊं नम: शिवाय का जाप करते हुए भगवान शिव को जल अर्पित करना चाहिए। इस व्रत में भगवान शिव के साथ मां पार्वती की भी पूजा की जाती है।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

जरूर पढ़ें

 
Hindi News से जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
Web Title: in the horoscope there is chandras fault then surely keep pradosha fast
 
 
 
 
From around the Web
जरूर पढ़ें
क्रिकेट स्कोरबोर्ड