Hindi Newsधर्म न्यूज़Saturn Palmistry : symbol of weak Shani in kundali know remedies

Palmistry : शनि के कमजोर होने पर हथेलियों पर दिखते हैं ये संकेत, जानें इसका प्रभाव

  • Palmistry : हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, कुंडली में मौजूद कुछ रेखाएं शनि के कमजोर होने का संकेत देती हैं। मान्यता है कि शनि के कमजोर होने पर व्यक्ति को जीवन में कई कष्टों का सामना करना पड़ता है।

Arti Tripathi लाइव हिन्दुस्तान टीम, नई दिल्लीWed, 19 June 2024 10:42 PM
हमें फॉलो करें

Palmistry : सनातन धर्म में ज्योतिष के अलावा हस्तरेखा शास्त्र की मदद से भविष्य में होने वाली शुभ-अशुभ घटनाओं के बारे में अनुमान लगाया जा सकता है। कहा जाता है कि हथेली पर मौजूद कुछ लकीरों के माध्यम से शनि के मजबूत या कमजोर होने की स्थिति के बारे में पता लगाया जा सकता है। मान्यता है कुंडली में शनि की स्थिति कमजोर होने पर व्यक्ति को जीवन परेशानियों से घिरा रहता है। हर कार्य में बाधाएं आती हैं और कड़ी मेहनत के बावूजद जीवन में सफलता मिलती है। मन अशांत रहता है। आइए जानते हैं हथेलियों की किन लकीरों के जरिए कमजोर या मजबूत शनि का संकेत मिलता है?

हथेलियों पर कमजोर शनि के संकेत :

  • हथेली में मध्यमा उंगली के ठीक नीचे वाले हिस्से को शनि पर्वत कहा जाता है। शनि पर्वत के धंसे होने पर व्यक्ति का शनि कमजोर माना जाता है। इसके अलावा शनि पर्वत पर मौजूद टूटी और कई हिस्सों में बंटी हुई शनि रेखा भी कमजोर शनि का संकेत देती हैं।
  • यह भी मान्यता है कि जिस व्यक्ति का मध्यमा उंगली का झुकाव अनामिका उंगली के ओर ज्यादा होता है, उसका का भी शनि कमजोर होता है।
  • कहा जाता है कि शनि के कमजोर होने पर व्यक्ति को बार-बार गुस्सा बहुत होता है। लाइफ में आए दिन किसी न किसी परेशानियों का सामना करना पड़ता है और किसी भी कार्य में मन नहीं लगता है।
  • कमजोर शनि से व्यक्ति को आर्थिक दिक्कतों का भी सामना करना पड़ सकता है। इससे लोग कर्ज के बोझ के नीचे दब जाते हैं।

शनि के प्रकोप से बचने के उपाय :

  • शनि के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए हर शनिवार को पीपल के पेड़ पर जल अर्पित करें और पेड़ के नीचे सरसों के तेल का दीपक प्रज्ज्वलित करें। मान्यता है कि ऐसा करने से शनि के प्रकोप से होने वाली परेशानियां दूर होती हैं।
  • इसके अलावा शनि को मजबूत करने के लिए प्रत्येक शनिवार को शनिदेव पर सरसों का तेल भी चढ़ाएं। शनिदेव पूजा करें और ‘ऊं प्रां प्रीं प्रौं सः शनये नमः’ मंत्र का जाप करें। इससे आपको धीरे-धीरे पॉजिटिव रिजल्ट मिलने लगेंगे।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ऐप पर पढ़ें