DA Image

अगली स्टोरी

वृश्चिक

1 जन॰ 2019

वृश्चिक (24 अक्टूबर-21 नवंबर)
आपकी राशि के स्वामी वर्ष के प्रारंभ में मीन राशि से होकर पंचम भाव में रहेंगे। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे लेकिन क्रोध की अधिकता रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा, 30 मार्च के उपरांत धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे परंतु नौकरी में स्थान परिवर्तन भी संभव है। परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, भवन सुख में वृद्धि होगी, नया वाहन भी ले सकते हैं। इस वर्ष किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी बन सकता है, यात्रा सुखद रहेगी। उच्च शिक्षा के लिए किसी दूरस्थ स्थान पर जा सकते हैं। कारोबार में विस्तार में मित्रों का सहयोग मिल सकता है, वर्ष के अंत में कारोबार में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कारोबार की स्थिति संतोषजनक रहेगी।

उपाय

  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करके बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ किया करें, सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

वृश्चिक

1 जन॰ 2019

वृश्चिक (24 अक्टूबर-21 नवंबर)
आपकी राशि के स्वामी वर्ष के प्रारंभ में मीन राशि से होकर पंचम भाव में रहेंगे। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे लेकिन क्रोध की अधिकता रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा, 30 मार्च के उपरांत धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे परंतु नौकरी में स्थान परिवर्तन भी संभव है। परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, भवन सुख में वृद्धि होगी, नया वाहन भी ले सकते हैं। इस वर्ष किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी बन सकता है, यात्रा सुखद रहेगी। उच्च शिक्षा के लिए किसी दूरस्थ स्थान पर जा सकते हैं। कारोबार में विस्तार में मित्रों का सहयोग मिल सकता है, वर्ष के अंत में कारोबार में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कारोबार की स्थिति संतोषजनक रहेगी।

उपाय

  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करके बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ किया करें, सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

वृश्चिक

1 जन॰ 2019

वृश्चिक (24 अक्टूबर-21 नवंबर)
आपकी राशि के स्वामी वर्ष के प्रारंभ में मीन राशि से होकर पंचम भाव में रहेंगे। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे लेकिन क्रोध की अधिकता रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा, 30 मार्च के उपरांत धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे परंतु नौकरी में स्थान परिवर्तन भी संभव है। परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, भवन सुख में वृद्धि होगी, नया वाहन भी ले सकते हैं। इस वर्ष किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी बन सकता है, यात्रा सुखद रहेगी। उच्च शिक्षा के लिए किसी दूरस्थ स्थान पर जा सकते हैं। कारोबार में विस्तार में मित्रों का सहयोग मिल सकता है, वर्ष के अंत में कारोबार में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कारोबार की स्थिति संतोषजनक रहेगी।

उपाय

  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करके बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ किया करें, सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

वृश्चिक

2019

वृश्चिक (24 अक्टूबर-21 नवंबर)
आपकी राशि के स्वामी वर्ष के प्रारंभ में मीन राशि से होकर पंचम भाव में रहेंगे। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे लेकिन क्रोध की अधिकता रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा, 30 मार्च के उपरांत धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे परंतु नौकरी में स्थान परिवर्तन भी संभव है। परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, भवन सुख में वृद्धि होगी, नया वाहन भी ले सकते हैं। इस वर्ष किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी बन सकता है, यात्रा सुखद रहेगी। उच्च शिक्षा के लिए किसी दूरस्थ स्थान पर जा सकते हैं। कारोबार में विस्तार में मित्रों का सहयोग मिल सकता है, वर्ष के अंत में कारोबार में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कारोबार की स्थिति संतोषजनक रहेगी।

उपाय

  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करके बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ किया करें, सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

वृश्चिक

जनवरी

वृश्चिक (24 अक्टूबर-21 नवंबर)
आपकी राशि के स्वामी वर्ष के प्रारंभ में मीन राशि से होकर पंचम भाव में रहेंगे। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे लेकिन क्रोध की अधिकता रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा, 30 मार्च के उपरांत धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे परंतु नौकरी में स्थान परिवर्तन भी संभव है। परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, भवन सुख में वृद्धि होगी, नया वाहन भी ले सकते हैं। इस वर्ष किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी बन सकता है, यात्रा सुखद रहेगी। उच्च शिक्षा के लिए किसी दूरस्थ स्थान पर जा सकते हैं। कारोबार में विस्तार में मित्रों का सहयोग मिल सकता है, वर्ष के अंत में कारोबार में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कारोबार की स्थिति संतोषजनक रहेगी।

उपाय

  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करके बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ किया करें, सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

वृश्चिक

2019

वृश्चिक (24 अक्टूबर-21 नवंबर)
आपकी राशि के स्वामी वर्ष के प्रारंभ में मीन राशि से होकर पंचम भाव में रहेंगे। आप आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे लेकिन क्रोध की अधिकता रहेगी। वाणी में कठोरता का प्रभाव रहेगा, 30 मार्च के उपरांत धन की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे परंतु नौकरी में स्थान परिवर्तन भी संभव है। परिवार में मांगलिक कार्य होंगे, भवन सुख में वृद्धि होगी, नया वाहन भी ले सकते हैं। इस वर्ष किसी धार्मिक स्थान की यात्रा पर जाने का कार्यक्रम भी बन सकता है, यात्रा सुखद रहेगी। उच्च शिक्षा के लिए किसी दूरस्थ स्थान पर जा सकते हैं। कारोबार में विस्तार में मित्रों का सहयोग मिल सकता है, वर्ष के अंत में कारोबार में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। कारोबार की स्थिति संतोषजनक रहेगी।

उपाय

  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करके बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ किया करें, सूजी के हलवे का भोग लगाएं।
25 मई, 2019