DA Image

अगली स्टोरी

धनु

1 जन॰ 2019

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)
वर्ष के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा, आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्य में व्यवधान रहेंगे। 30 मार्च को राशि के स्वामी के राशि परिवर्तन से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। जीवन साथी से मनमुटाव भी हो सकता है या स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। 2 जून के बाद स्वास्थ्य में सुधार होगा, माता का सानिध्य व सहयोग मिलेगा। फरवरी-मार्च माह में कारोबार की स्थिति में सुधार होगा, किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार भी हो सकता है। लाभ की स्थिति संतोषजनक रहेगी, मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा लेकिन मेहनत भी अधिक रहेगी।

उपाय

  • सरसों के तेल में अपना मुंह देखकर उस तेल से शनिवार के दिन पूढ़े (गुलगुले) बनवाकर सूर्यास्त के बाद कुत्तों को खिलाएं।
  • सोमवार के दिन एक मुट्ठी चावल किसी डिब्बे का या थैले में डालकर एकत्र कर लें, जब काफी ज्यादा हो जाए तो उसे मंदिर के पुजारी को दे दें।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ करके सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

धनु

1 जन॰ 2019

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)
वर्ष के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा, आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्य में व्यवधान रहेंगे। 30 मार्च को राशि के स्वामी के राशि परिवर्तन से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। जीवन साथी से मनमुटाव भी हो सकता है या स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। 2 जून के बाद स्वास्थ्य में सुधार होगा, माता का सानिध्य व सहयोग मिलेगा। फरवरी-मार्च माह में कारोबार की स्थिति में सुधार होगा, किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार भी हो सकता है। लाभ की स्थिति संतोषजनक रहेगी, मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा लेकिन मेहनत भी अधिक रहेगी।

उपाय

  • सरसों के तेल में अपना मुंह देखकर उस तेल से शनिवार के दिन पूढ़े (गुलगुले) बनवाकर सूर्यास्त के बाद कुत्तों को खिलाएं।
  • सोमवार के दिन एक मुट्ठी चावल किसी डिब्बे का या थैले में डालकर एकत्र कर लें, जब काफी ज्यादा हो जाए तो उसे मंदिर के पुजारी को दे दें।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ करके सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

धनु

1 जन॰ 2019

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)
वर्ष के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा, आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्य में व्यवधान रहेंगे। 30 मार्च को राशि के स्वामी के राशि परिवर्तन से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। जीवन साथी से मनमुटाव भी हो सकता है या स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। 2 जून के बाद स्वास्थ्य में सुधार होगा, माता का सानिध्य व सहयोग मिलेगा। फरवरी-मार्च माह में कारोबार की स्थिति में सुधार होगा, किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार भी हो सकता है। लाभ की स्थिति संतोषजनक रहेगी, मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा लेकिन मेहनत भी अधिक रहेगी।

उपाय

  • सरसों के तेल में अपना मुंह देखकर उस तेल से शनिवार के दिन पूढ़े (गुलगुले) बनवाकर सूर्यास्त के बाद कुत्तों को खिलाएं।
  • सोमवार के दिन एक मुट्ठी चावल किसी डिब्बे का या थैले में डालकर एकत्र कर लें, जब काफी ज्यादा हो जाए तो उसे मंदिर के पुजारी को दे दें।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ करके सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

धनु

2019

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)
वर्ष के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा, आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्य में व्यवधान रहेंगे। 30 मार्च को राशि के स्वामी के राशि परिवर्तन से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। जीवन साथी से मनमुटाव भी हो सकता है या स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। 2 जून के बाद स्वास्थ्य में सुधार होगा, माता का सानिध्य व सहयोग मिलेगा। फरवरी-मार्च माह में कारोबार की स्थिति में सुधार होगा, किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार भी हो सकता है। लाभ की स्थिति संतोषजनक रहेगी, मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा लेकिन मेहनत भी अधिक रहेगी।

उपाय

  • सरसों के तेल में अपना मुंह देखकर उस तेल से शनिवार के दिन पूढ़े (गुलगुले) बनवाकर सूर्यास्त के बाद कुत्तों को खिलाएं।
  • सोमवार के दिन एक मुट्ठी चावल किसी डिब्बे का या थैले में डालकर एकत्र कर लें, जब काफी ज्यादा हो जाए तो उसे मंदिर के पुजारी को दे दें।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ करके सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

धनु

जनवरी

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)
वर्ष के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा, आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्य में व्यवधान रहेंगे। 30 मार्च को राशि के स्वामी के राशि परिवर्तन से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। जीवन साथी से मनमुटाव भी हो सकता है या स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। 2 जून के बाद स्वास्थ्य में सुधार होगा, माता का सानिध्य व सहयोग मिलेगा। फरवरी-मार्च माह में कारोबार की स्थिति में सुधार होगा, किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार भी हो सकता है। लाभ की स्थिति संतोषजनक रहेगी, मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा लेकिन मेहनत भी अधिक रहेगी।

उपाय

  • सरसों के तेल में अपना मुंह देखकर उस तेल से शनिवार के दिन पूढ़े (गुलगुले) बनवाकर सूर्यास्त के बाद कुत्तों को खिलाएं।
  • सोमवार के दिन एक मुट्ठी चावल किसी डिब्बे का या थैले में डालकर एकत्र कर लें, जब काफी ज्यादा हो जाए तो उसे मंदिर के पुजारी को दे दें।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ करके सूजी के हलवे का भोग लगाएं।

धनु

2019

धनु (22 नवंबर-21 दिसंबर)
वर्ष के प्रारंभ में मन अशांत रहेगा, आत्मविश्वास में कमी रहेगी। शैक्षिक कार्य में व्यवधान रहेंगे। 30 मार्च को राशि के स्वामी के राशि परिवर्तन से आत्मविश्वास में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। धर्म-कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन नौकरी में परिवर्तन के योग भी बन रहे हैं। जीवन साथी से मनमुटाव भी हो सकता है या स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। 2 जून के बाद स्वास्थ्य में सुधार होगा, माता का सानिध्य व सहयोग मिलेगा। फरवरी-मार्च माह में कारोबार की स्थिति में सुधार होगा, किसी मित्र के सहयोग से कारोबार का विस्तार भी हो सकता है। लाभ की स्थिति संतोषजनक रहेगी, मान-सम्मान में वृद्धि होगी। शासन सत्ता का सहयोग मिलेगा लेकिन मेहनत भी अधिक रहेगी।

उपाय

  • सरसों के तेल में अपना मुंह देखकर उस तेल से शनिवार के दिन पूढ़े (गुलगुले) बनवाकर सूर्यास्त के बाद कुत्तों को खिलाएं।
  • सोमवार के दिन एक मुट्ठी चावल किसी डिब्बे का या थैले में डालकर एकत्र कर लें, जब काफी ज्यादा हो जाए तो उसे मंदिर के पुजारी को दे दें।
  • शुक्रवार के दिन दुर्गा सप्तशती के अर्गला स्त्रोत का पाठ करके सूजी के हलवे का भोग लगाएं।
19 जून, 2019