DA Image

अगली स्टोरी

मिथुन

1 जन॰ 2019

मिथुन : (21 मई से 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी भी रहेगी। परिवार में आपसी वैचारिक मतभेद रहेंगे। छह फरवरी के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि के अवसर मिल सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। रक्त विकार हो सकते हैं। वाणी में कठोरता आ सकती है। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्या में कमी आएगी। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी, आय की स्थिति में सुधार होगा लेकिन खर्चों में भी वृद्धि होगी। 23 अप्रैल से 13 अगस्त के मध्य जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। नौकरी में भी परिवर्तन के योग बन रहे हैं, आय में वृद्धि होगी। कुटुंब में धार्मिक कार्य होंगे। संचित धन में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्य के सुखद परिणाम मिलेंगे। कारोबार में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। पांच नवंबर के बाद कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार विस्तार के अवसर मिल सकते हैं।

उपाय :

  • -नित्य विषणु सहस्त्रनाम का जाप करें।
  • -प्रतिदिन प्रात: गणेश स्त्रोत का पाठ करें, बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
  • शनिवार के दिन शाम को कुत्ते को मीठा पराठां खिलाएं।
  • मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन तथा उनके दाहिने पैर से सिंदूर अंगुली में लगाकर अपने मस्तक पर लगाएं।

मिथुन

1 जन॰ 2019

मिथुन : (21 मई से 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी भी रहेगी। परिवार में आपसी वैचारिक मतभेद रहेंगे। छह फरवरी के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि के अवसर मिल सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। रक्त विकार हो सकते हैं। वाणी में कठोरता आ सकती है। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्या में कमी आएगी। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी, आय की स्थिति में सुधार होगा लेकिन खर्चों में भी वृद्धि होगी। 23 अप्रैल से 13 अगस्त के मध्य जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। नौकरी में भी परिवर्तन के योग बन रहे हैं, आय में वृद्धि होगी। कुटुंब में धार्मिक कार्य होंगे। संचित धन में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्य के सुखद परिणाम मिलेंगे। कारोबार में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। पांच नवंबर के बाद कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार विस्तार के अवसर मिल सकते हैं।

उपाय :

  • -नित्य विषणु सहस्त्रनाम का जाप करें।
  • -प्रतिदिन प्रात: गणेश स्त्रोत का पाठ करें, बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
  • शनिवार के दिन शाम को कुत्ते को मीठा पराठां खिलाएं।
  • मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन तथा उनके दाहिने पैर से सिंदूर अंगुली में लगाकर अपने मस्तक पर लगाएं।

मिथुन

1 जन॰ 2019

मिथुन : (21 मई से 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी भी रहेगी। परिवार में आपसी वैचारिक मतभेद रहेंगे। छह फरवरी के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि के अवसर मिल सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। रक्त विकार हो सकते हैं। वाणी में कठोरता आ सकती है। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्या में कमी आएगी। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी, आय की स्थिति में सुधार होगा लेकिन खर्चों में भी वृद्धि होगी। 23 अप्रैल से 13 अगस्त के मध्य जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। नौकरी में भी परिवर्तन के योग बन रहे हैं, आय में वृद्धि होगी। कुटुंब में धार्मिक कार्य होंगे। संचित धन में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्य के सुखद परिणाम मिलेंगे। कारोबार में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। पांच नवंबर के बाद कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार विस्तार के अवसर मिल सकते हैं।

उपाय :

  • -नित्य विषणु सहस्त्रनाम का जाप करें।
  • -प्रतिदिन प्रात: गणेश स्त्रोत का पाठ करें, बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
  • शनिवार के दिन शाम को कुत्ते को मीठा पराठां खिलाएं।
  • मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन तथा उनके दाहिने पैर से सिंदूर अंगुली में लगाकर अपने मस्तक पर लगाएं।

मिथुन

2019

मिथुन : (21 मई से 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी भी रहेगी। परिवार में आपसी वैचारिक मतभेद रहेंगे। छह फरवरी के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि के अवसर मिल सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। रक्त विकार हो सकते हैं। वाणी में कठोरता आ सकती है। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्या में कमी आएगी। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी, आय की स्थिति में सुधार होगा लेकिन खर्चों में भी वृद्धि होगी। 23 अप्रैल से 13 अगस्त के मध्य जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। नौकरी में भी परिवर्तन के योग बन रहे हैं, आय में वृद्धि होगी। कुटुंब में धार्मिक कार्य होंगे। संचित धन में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्य के सुखद परिणाम मिलेंगे। कारोबार में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। पांच नवंबर के बाद कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार विस्तार के अवसर मिल सकते हैं।

उपाय :

  • -नित्य विषणु सहस्त्रनाम का जाप करें।
  • -प्रतिदिन प्रात: गणेश स्त्रोत का पाठ करें, बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
  • शनिवार के दिन शाम को कुत्ते को मीठा पराठां खिलाएं।
  • मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन तथा उनके दाहिने पैर से सिंदूर अंगुली में लगाकर अपने मस्तक पर लगाएं।

मिथुन

जनवरी

मिथुन : (21 मई से 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी भी रहेगी। परिवार में आपसी वैचारिक मतभेद रहेंगे। छह फरवरी के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि के अवसर मिल सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। रक्त विकार हो सकते हैं। वाणी में कठोरता आ सकती है। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्या में कमी आएगी। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी, आय की स्थिति में सुधार होगा लेकिन खर्चों में भी वृद्धि होगी। 23 अप्रैल से 13 अगस्त के मध्य जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। नौकरी में भी परिवर्तन के योग बन रहे हैं, आय में वृद्धि होगी। कुटुंब में धार्मिक कार्य होंगे। संचित धन में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्य के सुखद परिणाम मिलेंगे। कारोबार में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। पांच नवंबर के बाद कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार विस्तार के अवसर मिल सकते हैं।

उपाय :

  • -नित्य विषणु सहस्त्रनाम का जाप करें।
  • -प्रतिदिन प्रात: गणेश स्त्रोत का पाठ करें, बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
  • शनिवार के दिन शाम को कुत्ते को मीठा पराठां खिलाएं।
  • मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन तथा उनके दाहिने पैर से सिंदूर अंगुली में लगाकर अपने मस्तक पर लगाएं।

मिथुन

2019

मिथुन : (21 मई से 21 जून)
वर्ष के प्रारंभ में आत्मविश्वास से लबरेज तो रहेंगे परंतु धैर्यशीलता में कमी भी रहेगी। परिवार में आपसी वैचारिक मतभेद रहेंगे। छह फरवरी के बाद किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि के अवसर मिल सकते हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। रक्त विकार हो सकते हैं। वाणी में कठोरता आ सकती है। 30 मार्च के बाद पारिवारिक समस्या में कमी आएगी। धर्मकर्म में रुचि बढ़ेगी, आय की स्थिति में सुधार होगा लेकिन खर्चों में भी वृद्धि होगी। 23 अप्रैल से 13 अगस्त के मध्य जीवनसाथी को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। नौकरी में भी परिवर्तन के योग बन रहे हैं, आय में वृद्धि होगी। कुटुंब में धार्मिक कार्य होंगे। संचित धन में वृद्धि होगी, शैक्षिक कार्य के सुखद परिणाम मिलेंगे। कारोबार में उतार-चढ़ाव आते रहेंगे। पांच नवंबर के बाद कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। कारोबार विस्तार के अवसर मिल सकते हैं।

उपाय :

  • -नित्य विषणु सहस्त्रनाम का जाप करें।
  • -प्रतिदिन प्रात: गणेश स्त्रोत का पाठ करें, बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
  • शनिवार के दिन शाम को कुत्ते को मीठा पराठां खिलाएं।
  • मंगलवार के दिन हनुमान जी के दर्शन तथा उनके दाहिने पैर से सिंदूर अंगुली में लगाकर अपने मस्तक पर लगाएं।
25 जून, 2019