DA Image

अगली स्टोरी

मेष

1 अग॰ 2019

माह के आरंभ में मन अशांत रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। नौ अगस्त के उपरांत आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। परंतु धैर्यशीलता में कमी आएगी। 17 अगस्त के बाद संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मेष

1 अग॰ 2019

माह के आरंभ में मन अशांत रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। नौ अगस्त के उपरांत आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। परंतु धैर्यशीलता में कमी आएगी। 17 अगस्त के बाद संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मेष

1 अग॰ 2019

माह के आरंभ में मन अशांत रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। नौ अगस्त के उपरांत आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। परंतु धैर्यशीलता में कमी आएगी। 17 अगस्त के बाद संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मेष

1564597800000

माह के आरंभ में मन अशांत रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। नौ अगस्त के उपरांत आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। परंतु धैर्यशीलता में कमी आएगी। 17 अगस्त के बाद संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मेष

अगस्त

माह के आरंभ में मन अशांत रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। नौ अगस्त के उपरांत आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। परंतु धैर्यशीलता में कमी आएगी। 17 अगस्त के बाद संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

मेष

1564597800000

माह के आरंभ में मन अशांत रहेगा। माता को स्वास्थ्य विकार हो सकते हैं। रहन-सहन कष्टमय हो सकता है। नौ अगस्त के उपरांत आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। परंतु धैर्यशीलता में कमी आएगी। 17 अगस्त के बाद संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। कारोबार की स्थिति में सुधार होगा। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

18 सितम्बर, 2019