DA Image

अगली स्टोरी

मेष

1 जन॰ 2019

मेष : (21 मार्च से 20 अप्रैल) 
आपकी राशि के स्वामी मंगल वर्ष के प्रारंभ में द्वादश भावस्थ है। अत: वर्ष के प्रारंभ में मानसिक उलझनें रहेंगी, मन परेशान रहेगा, छह फरवरी को कुछ शांति आएगी। मानसिक परेशानी तो कम होगी लेकिन धैर्यशीलता में कमी आएगी। सात मार्च के बाद से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। 30 मार्च से शैक्षिक कार्य में प्रगति देखने को मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। एक मई के उपरांत नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी संभव है, यात्रा भी अधिक होगी। परिवार से दूर हो सकते हैं, आय में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी। 22 अगस्त के बाद स्थिति में सुधार होगा। अक्तूबर माह में नए वाहन का योग बन रहा है। इस वर्ष संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। परिवार में सुख शांति रहेगी।

उपाय:

  • मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करें। भगवान गणेश भगवान पर दुर्वा घास पानी में धोकर चढ़ाएं तथा बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।

मेष

1 जन॰ 2019

मेष : (21 मार्च से 20 अप्रैल) 
आपकी राशि के स्वामी मंगल वर्ष के प्रारंभ में द्वादश भावस्थ है। अत: वर्ष के प्रारंभ में मानसिक उलझनें रहेंगी, मन परेशान रहेगा, छह फरवरी को कुछ शांति आएगी। मानसिक परेशानी तो कम होगी लेकिन धैर्यशीलता में कमी आएगी। सात मार्च के बाद से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। 30 मार्च से शैक्षिक कार्य में प्रगति देखने को मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। एक मई के उपरांत नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी संभव है, यात्रा भी अधिक होगी। परिवार से दूर हो सकते हैं, आय में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी। 22 अगस्त के बाद स्थिति में सुधार होगा। अक्तूबर माह में नए वाहन का योग बन रहा है। इस वर्ष संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। परिवार में सुख शांति रहेगी।

उपाय:

  • मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करें। भगवान गणेश भगवान पर दुर्वा घास पानी में धोकर चढ़ाएं तथा बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।

मेष

1 जन॰ 2019

मेष : (21 मार्च से 20 अप्रैल) 
आपकी राशि के स्वामी मंगल वर्ष के प्रारंभ में द्वादश भावस्थ है। अत: वर्ष के प्रारंभ में मानसिक उलझनें रहेंगी, मन परेशान रहेगा, छह फरवरी को कुछ शांति आएगी। मानसिक परेशानी तो कम होगी लेकिन धैर्यशीलता में कमी आएगी। सात मार्च के बाद से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। 30 मार्च से शैक्षिक कार्य में प्रगति देखने को मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। एक मई के उपरांत नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी संभव है, यात्रा भी अधिक होगी। परिवार से दूर हो सकते हैं, आय में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी। 22 अगस्त के बाद स्थिति में सुधार होगा। अक्तूबर माह में नए वाहन का योग बन रहा है। इस वर्ष संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। परिवार में सुख शांति रहेगी।

उपाय:

  • मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करें। भगवान गणेश भगवान पर दुर्वा घास पानी में धोकर चढ़ाएं तथा बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।

मेष

2019

मेष : (21 मार्च से 20 अप्रैल) 
आपकी राशि के स्वामी मंगल वर्ष के प्रारंभ में द्वादश भावस्थ है। अत: वर्ष के प्रारंभ में मानसिक उलझनें रहेंगी, मन परेशान रहेगा, छह फरवरी को कुछ शांति आएगी। मानसिक परेशानी तो कम होगी लेकिन धैर्यशीलता में कमी आएगी। सात मार्च के बाद से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। 30 मार्च से शैक्षिक कार्य में प्रगति देखने को मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। एक मई के उपरांत नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी संभव है, यात्रा भी अधिक होगी। परिवार से दूर हो सकते हैं, आय में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी। 22 अगस्त के बाद स्थिति में सुधार होगा। अक्तूबर माह में नए वाहन का योग बन रहा है। इस वर्ष संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। परिवार में सुख शांति रहेगी।

उपाय:

  • मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करें। भगवान गणेश भगवान पर दुर्वा घास पानी में धोकर चढ़ाएं तथा बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।

मेष

जनवरी

मेष : (21 मार्च से 20 अप्रैल) 
आपकी राशि के स्वामी मंगल वर्ष के प्रारंभ में द्वादश भावस्थ है। अत: वर्ष के प्रारंभ में मानसिक उलझनें रहेंगी, मन परेशान रहेगा, छह फरवरी को कुछ शांति आएगी। मानसिक परेशानी तो कम होगी लेकिन धैर्यशीलता में कमी आएगी। सात मार्च के बाद से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। 30 मार्च से शैक्षिक कार्य में प्रगति देखने को मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। एक मई के उपरांत नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी संभव है, यात्रा भी अधिक होगी। परिवार से दूर हो सकते हैं, आय में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी। 22 अगस्त के बाद स्थिति में सुधार होगा। अक्तूबर माह में नए वाहन का योग बन रहा है। इस वर्ष संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। परिवार में सुख शांति रहेगी।

उपाय:

  • मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करें। भगवान गणेश भगवान पर दुर्वा घास पानी में धोकर चढ़ाएं तथा बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।

मेष

2019

मेष : (21 मार्च से 20 अप्रैल) 
आपकी राशि के स्वामी मंगल वर्ष के प्रारंभ में द्वादश भावस्थ है। अत: वर्ष के प्रारंभ में मानसिक उलझनें रहेंगी, मन परेशान रहेगा, छह फरवरी को कुछ शांति आएगी। मानसिक परेशानी तो कम होगी लेकिन धैर्यशीलता में कमी आएगी। सात मार्च के बाद से माता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। कारोबार में सुधार के संकेत मिल रहे हैं। 30 मार्च से शैक्षिक कार्य में प्रगति देखने को मिलेगी। धन की स्थिति में सुधार होगा। एक मई के उपरांत नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र में परिवर्तन भी संभव है, यात्रा भी अधिक होगी। परिवार से दूर हो सकते हैं, आय में कमी व खर्चों में अधिकता रहेगी। 22 अगस्त के बाद स्थिति में सुधार होगा। अक्तूबर माह में नए वाहन का योग बन रहा है। इस वर्ष संतान की ओर से सुखद समाचार मिल सकते हैं। परिवार में सुख शांति रहेगी।

उपाय:

  • मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।
  • बुधवार के दिन गणेश स्त्रोत का पाठ करें। भगवान गणेश भगवान पर दुर्वा घास पानी में धोकर चढ़ाएं तथा बूंदी के लड्डू का भोग लगाकर प्रसाद वितरित करें।
25 जून, 2019