DA Image

अगली स्टोरी

कुंभ

1 जन॰ 2019

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी)
आपकी राशि के स्वामी शनि एकादश भाव से होकर वर्ष के प्रारंभ में सूर्य के साथ हैं। 17 जनवरी तक मन शांत हो सकता है। क्रोध एवं आवेश की अधिकता तथा संतान को कष्ट हो सकते हैं। छह फरवरी तक बातचीत में संतुलन बनाए रखें। सात मार्च से व्यर्थ की मानसिक चिंताए रहेंगी। शैक्षणिक कार्यों में विघ्न   बाधाएं आ सकती हैं। 30 मार्च के उपरांत लेखनादि बौद्धिक कार्य से धनार्जन के साधन विकसित होंगे। भाग्य में वृद्धी होगी, नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। परिवार में सुखशांति रहेगी। वाहन सुख में वृद्धी के योग भी बन रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहें।

उपाय

  • प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव का दूध मिश्रित जलाभिषेक करें।
  • प्रतिदिन प्रात: आदित्य हृदय स्रोत का पाठ का करे, तांबे के लोटे में जल भरकर उमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड़ डालकर भगवान सूर्य की ओर मुख करके जल अपिर्त करें।
  • नित्य गणेश स्रोत का पाठ कर बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।

कुंभ

1 जन॰ 2019

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी)
आपकी राशि के स्वामी शनि एकादश भाव से होकर वर्ष के प्रारंभ में सूर्य के साथ हैं। 17 जनवरी तक मन शांत हो सकता है। क्रोध एवं आवेश की अधिकता तथा संतान को कष्ट हो सकते हैं। छह फरवरी तक बातचीत में संतुलन बनाए रखें। सात मार्च से व्यर्थ की मानसिक चिंताए रहेंगी। शैक्षणिक कार्यों में विघ्न   बाधाएं आ सकती हैं। 30 मार्च के उपरांत लेखनादि बौद्धिक कार्य से धनार्जन के साधन विकसित होंगे। भाग्य में वृद्धी होगी, नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। परिवार में सुखशांति रहेगी। वाहन सुख में वृद्धी के योग भी बन रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहें।

उपाय

  • प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव का दूध मिश्रित जलाभिषेक करें।
  • प्रतिदिन प्रात: आदित्य हृदय स्रोत का पाठ का करे, तांबे के लोटे में जल भरकर उमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड़ डालकर भगवान सूर्य की ओर मुख करके जल अपिर्त करें।
  • नित्य गणेश स्रोत का पाठ कर बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।

कुंभ

1 जन॰ 2019

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी)
आपकी राशि के स्वामी शनि एकादश भाव से होकर वर्ष के प्रारंभ में सूर्य के साथ हैं। 17 जनवरी तक मन शांत हो सकता है। क्रोध एवं आवेश की अधिकता तथा संतान को कष्ट हो सकते हैं। छह फरवरी तक बातचीत में संतुलन बनाए रखें। सात मार्च से व्यर्थ की मानसिक चिंताए रहेंगी। शैक्षणिक कार्यों में विघ्न   बाधाएं आ सकती हैं। 30 मार्च के उपरांत लेखनादि बौद्धिक कार्य से धनार्जन के साधन विकसित होंगे। भाग्य में वृद्धी होगी, नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। परिवार में सुखशांति रहेगी। वाहन सुख में वृद्धी के योग भी बन रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहें।

उपाय

  • प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव का दूध मिश्रित जलाभिषेक करें।
  • प्रतिदिन प्रात: आदित्य हृदय स्रोत का पाठ का करे, तांबे के लोटे में जल भरकर उमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड़ डालकर भगवान सूर्य की ओर मुख करके जल अपिर्त करें।
  • नित्य गणेश स्रोत का पाठ कर बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।

कुंभ

2019

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी)
आपकी राशि के स्वामी शनि एकादश भाव से होकर वर्ष के प्रारंभ में सूर्य के साथ हैं। 17 जनवरी तक मन शांत हो सकता है। क्रोध एवं आवेश की अधिकता तथा संतान को कष्ट हो सकते हैं। छह फरवरी तक बातचीत में संतुलन बनाए रखें। सात मार्च से व्यर्थ की मानसिक चिंताए रहेंगी। शैक्षणिक कार्यों में विघ्न   बाधाएं आ सकती हैं। 30 मार्च के उपरांत लेखनादि बौद्धिक कार्य से धनार्जन के साधन विकसित होंगे। भाग्य में वृद्धी होगी, नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। परिवार में सुखशांति रहेगी। वाहन सुख में वृद्धी के योग भी बन रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहें।

उपाय

  • प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव का दूध मिश्रित जलाभिषेक करें।
  • प्रतिदिन प्रात: आदित्य हृदय स्रोत का पाठ का करे, तांबे के लोटे में जल भरकर उमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड़ डालकर भगवान सूर्य की ओर मुख करके जल अपिर्त करें।
  • नित्य गणेश स्रोत का पाठ कर बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।

कुंभ

जनवरी

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी)
आपकी राशि के स्वामी शनि एकादश भाव से होकर वर्ष के प्रारंभ में सूर्य के साथ हैं। 17 जनवरी तक मन शांत हो सकता है। क्रोध एवं आवेश की अधिकता तथा संतान को कष्ट हो सकते हैं। छह फरवरी तक बातचीत में संतुलन बनाए रखें। सात मार्च से व्यर्थ की मानसिक चिंताए रहेंगी। शैक्षणिक कार्यों में विघ्न   बाधाएं आ सकती हैं। 30 मार्च के उपरांत लेखनादि बौद्धिक कार्य से धनार्जन के साधन विकसित होंगे। भाग्य में वृद्धी होगी, नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। परिवार में सुखशांति रहेगी। वाहन सुख में वृद्धी के योग भी बन रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहें।

उपाय

  • प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव का दूध मिश्रित जलाभिषेक करें।
  • प्रतिदिन प्रात: आदित्य हृदय स्रोत का पाठ का करे, तांबे के लोटे में जल भरकर उमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड़ डालकर भगवान सूर्य की ओर मुख करके जल अपिर्त करें।
  • नित्य गणेश स्रोत का पाठ कर बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।

कुंभ

2019

कुंभ (20 जनवरी-18 फरवरी)
आपकी राशि के स्वामी शनि एकादश भाव से होकर वर्ष के प्रारंभ में सूर्य के साथ हैं। 17 जनवरी तक मन शांत हो सकता है। क्रोध एवं आवेश की अधिकता तथा संतान को कष्ट हो सकते हैं। छह फरवरी तक बातचीत में संतुलन बनाए रखें। सात मार्च से व्यर्थ की मानसिक चिंताए रहेंगी। शैक्षणिक कार्यों में विघ्न   बाधाएं आ सकती हैं। 30 मार्च के उपरांत लेखनादि बौद्धिक कार्य से धनार्जन के साधन विकसित होंगे। भाग्य में वृद्धी होगी, नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। कार्यक्षेत्र का विस्तार होगा। परिवार में सुखशांति रहेगी। वाहन सुख में वृद्धी के योग भी बन रहे हैं लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत भी रहें।

उपाय

  • प्रत्येक सोमवार के दिन भगवान शिव का दूध मिश्रित जलाभिषेक करें।
  • प्रतिदिन प्रात: आदित्य हृदय स्रोत का पाठ का करे, तांबे के लोटे में जल भरकर उमें थोड़े से चावल, चीनी या गुड़ डालकर भगवान सूर्य की ओर मुख करके जल अपिर्त करें।
  • नित्य गणेश स्रोत का पाठ कर बूंदी के लड्डू का भोग लगाएं।
19 जून, 2019