DA Image
8 मार्च, 2021|2:19|IST

अगली स्टोरी

कन्या

7 मार्च 2021

मन अशान्त रहेगा। कारोबार में विपरीत परिस्थितियों का सामना करना पड़ सकता है। पठन-पाठन में रुचि बढ़ेगी। शैक्षिक एवं बौद्धिक कार्यों में सफलता मिलेगी। नौकरी में परिवर्तन के साथ तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। आय में कमी आएगी। जीवनसाथी का साथ मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कन्या

8 मार्च 2021

मन प्रसन्न रहेगा। नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा। कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। आय में वृद्धि भी होगी। क्षणे रुष्टा-क्षणे तुष्टा के भाव रहेंगे। परिवार में आपसी मतभेद बढ़ सकते हैं। नौकरी में कार्यक्षेत्र में परिवर्तन हो सकता है। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कन्या

9 मार्च 2021

मानसिक शान्ति‍ रहेगी। आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। कारोबार में भाई-बहनों का सहयोग मिल सकता है। लाभ के अवसर मिलेंगे। क्रोध के अतिरेक से बचें। परिवार की जिम्मेदारी बढ़ सकती हैं। रहन-सहन कष्टमय रहेगा। जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा। (पं.राघवेन्द्र शर्मा)

कन्या

week11-2021

Not found

कन्या

1 मार्च 2021

मास के प्रारंभ में मन प्रसन्न रहेगा। आत्मविश्वास भरपूर रहेगा। परंतु 12 मार्च के बाद मन परेशान रहेगा। पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 17 मार्च से नौकरी की स्थिति में सुधार होगा। 15 मार्च से खर्चों में कमी आएगी, परंतु स्वास्थ्य का ध्यान रखें। क्रोध के अतिरेक से बचें। परिवार की किसी महिला से धन की प्राप्ति हो सकती है। (पंडित राघवेंद्र शर्मा)

कन्या

1 जन॰ 2021

कन्या-(23 अगस्त-23 सितम्बर)
वर्ष के प्रारंभ में मन प्रसन्न रहेगा। आत्मविश्वास से परिपूर्ण रहेंगे, परन्तु कार्यक्षेत्र में कठिनाइयों से चिंतित भी हो सकते हैं। 22 फरवरी से कार्यक्षेत्र की स्थिति में सुधार होगा। एक अप्रैल से मन अशांत हो सकता है। आत्मविश्वास में कमी आ सकती है। पिता के स्वास्थ का ध्यान रखें। छह अप्रैल से पारिवारिक समस्याएं परेशान कर सकती हैं। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। खर्चों में वृद्धि होगी। नौकरी में परिवर्तन के अवसर मिल सकते हैं। 15 सितंबर से खर्चों में कमी तथा पारिवारिक समस्याओं का समाधान होगा। शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। आय वृद्धि के साधन बन सकते हैं। 12 अक्तूबर के बाद शोधादि कार्यों के लिए विदेश यात्रा के योग बन रहे हैं। यात्रा लाभप्रद रहेगी। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। वाहन की प्राप्ति हो सकती है।
उपाय-
1. प्रतिदिन ‘सिद्ध कुजि का स्त्रोत्र’ तथा ‘तन्त्रोक्तम देवी सूक्तम’ का पाठ करें।
2. मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाया करें।
3. बृहस्पतिवार के दिन गाय को तीन केले या दो बेसन के लड्डू खिलाया करें।