DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

निराशा से बाहर निकाल देता है रेखा पर यह निशान

हाथ में शनि पर्वत का भी अहम योगदान है। शनि पर्वत पर बनने वाले चिह्न जीवन को कई तरह प्रभावित करते हैं। हस्‍तरेखा विशेषज्ञ पं.शिवकुमार शर्मा के अनुसार शनि पर्वत अशुभ स्थिति में हो तो कुछ कार्यों में वह व्‍यक्‍ति का अहित करता है। शनि पर्वत मध्यमा उंगली के नीचे होता है। शनि पर्वत पर चतुष्कोण होने से व्‍यक्‍ति बुरी संगत से दूर रहता है। ऐसा व्‍यक्‍ति व्यक्ति समाज के कल्याण के लिए कार्य करने लगता है। वह मानव सेवा और समाज हित को ही अपना लक्ष्‍य मानकर जीवन को समर्पित कर देता है।

पं.शिवकुमार शर्मा के अनुसार यदि हाथ में मस्तिष्क रेखा अधिक लंबी हो तो मानसिक रूप से असंतोष उत्पन्न हो सकता है। यह स्थिति निराशा भी बढ़ा सकती है। यदि इस रेखा पर चतुष्कोण बन जाए तो व्यक्ति निराशा से बाहर आ सकता है। इसके साथ ही मानसिक रूप से संतुष्टि भी मिल जाती है। यदि हृदय रेखा पर चतुष्कोण बने तो व्यक्ति में मनोबल अधिक हो जाता है। हालांकि  हृदय रेखा की अशुभ स्थिति से हृदय संबंधी रोगों के आसार बने रहते हैं। लेकिन ये अशुभ हृदय रेखा पर ये निशान बन जाएं तो रोगों से बचाव हो जाता है। हथेली में शुक्र पर्वत पर चतुष्कोण के अच्‍छे परिणाम नहीं मिलते। यदि शुक्र पर्वत पर चतुष्कोण बनता है तो व्‍यक्‍ति को किसी मामले में किसी भी प्रकार की सजा या जुर्माना भरने की संभावनाएं बन सकती हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

हस्तरेखा: भाग्यशाली व्यक्ति के हाथों में ही बनता है यह पर्वत

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:this marks lets out from Disappointment in life