DA Image
29 जनवरी, 2020|8:16|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गरीब घर में जन्‍म लेकर सुख-सम्‍पत्ति पाते हैं ऐसे लोग

हस्‍तरेखा विज्ञान में केतु पर्वत को भी विशेष महत्‍व दिया गया है। हाथ में केतु पर्वत मणिबंद, शुक्र और चंद्र के बीच स्‍थित होता है। जातक के जीवन में केतु का प्रभाव प्रभाव सुख-सुविधा, बैंक बैलेंस और भौतिक उन्‍नति पर पड़ता है। केतु ग्रह की दृष्टि व्‍यक्‍ति के जीवन पर पांच साल से 20 साल तक बनी रहती है। इस अवधि में केतु व्‍यक्‍ति के जीवन पर पूर्ण प्रभाव देता है। पं.अभि भारद्वाज के अनुसार अगर जातक के हाथ में केतु पर्वत पूरी तरह से विकसित है और हाथ में भाग्य रेखा भी बिल्‍कुल साफ़ और सुविकसित है तो ऐसा व्‍यक्‍ति अपने जीवन में समस्‍त सुखों का भोग करता है।  ऐसे व्‍यक्‍ति का जन्‍म यदि गरीब घर में भी होता है तो भी वह अपने जीवन में शानदार प्रगति करते हैं। वे जीवन में आर्थिक क्षेत्र में तमाम लाभ प्राप्‍त करते हैं।

हस्‍तरेखा विज्ञान में इसी कारण हाथ में केतु को बेहद महत्‍वपूर्ण ग्रह माना जाता है। जिनके हाथ में केतु अच्‍छी अवस्‍था में विकसित होता है वे जीवन में प्रत्‍येक क्षेत्र में तरक्‍की करते हैं। लेकिन अगर हाथ में केतु पर्वत कमजोर है और भाग्य रेखा भी कुछ खास न हो तो जातक अपने जीवन में ज्यादा तरक्की नहीं कर पाता। ऐसे व्‍यक्‍ति को अपने यौवनकाल तक के समय को गरीबी में व्‍यतीत करना पड़ता है। इसी तरह यदि व्‍यक्‍ति के केतु पर्वत पर क्रॉस का चिह्न बन जाए तो वे बचपन में बीमार रहते हैं। यदि बीमार नहीं रहते तो उनकी पढ़ाई प्रभावित होती है और वे शैक्षिक क्षेत्र में पिछड़ जाते हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

Purnima 2019: 12 दिसंबर को है स्नान-दान की मार्गशीष पूर्णिमा, 16 दिसंबर से शुरू होंगे खरमास, पढ़ें इस सप्ताह के व्रत और त्योहार

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Such people get wealth by taking birth in poor house