DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानिए, हाथ की रहस्‍यमयी आकृति जो बदलती है जीवन

त्रिकोण या त्रिभुज ज्यामिति शास्त्र की ऐसी रचना है जिसका महत्व सिर्फ गणित में ही नहीं बल्‍कि आध्यात्म और ज्योतिष के क्षेत्र में भी उतना ही प्रचलित है। अधिकांश ज्योतिषीय यंत्रों की रचना त्रिभुज के आधार पर ही की जाती है क्योंकि त्रिभुज या त्रिकोण अपने आप में पूर्ण है और समस्त शक्तियां इसमें निहित हैं। ज्‍योतिषाचार्य सुखविंदर के मुताबिक हस्तरेखा शास्त्र में भी त्रिभुज को बहुत महत्व दिया जाता है जो अपने में रहस्य और रोमांच समेटे हुए है। हथेली में त्रिभुज सफलता की निशानी माना जाता है। जब भी हथेली के बीच में त्रिभुज या कोई त्रिकोणात्मक आकृति दिखाई दे तो ये आर्थिक सम्पन्नता एवं संपत्‍ति का सूचक है। साथ ही व्यक्ति को संकट से भी बचाता है। हथेली में ये चिन्ह जहां भी पाया जाता है वहां की शक्ति बढ़ जाती है। यदि यह त्रिभुज सूर्य पर्वत पर हो तो जातक कला के क्षेत्र में धीरे-धीरे उच्‍च सफलता पाता है। ऐसे जातक गंभीर स्वभाव के होते हैं ।

चंद्रमा पर त्रिभुज विचार शक्ति की प्रबलता को दर्शाता है। ऐसा व्‍यक्‍ति जो कुछ भी सोचता है उसका कोई ना कोई आधार जरूर होता है। मंगल क्षेत्र पर त्रिभुज व्‍यक्‍ति में चतुराई और बहादुरी की परिस्‍थितियों का बल प्रदान करता है। यदि शनि पर्वत पर त्रिभुज है तो ऐसा व्‍यक्‍ति किसी रहस्यात्मक एवं गूढ़ विद्या के जानकार होते हैं। अर्थात बड़े-बड़े ज्योतिषाचार्यों और तांत्रिकों के हाथ में शनि के क्षेत्र पर त्रिभुजाकार आकृति अवश्य पायी जाती है। ऐसे लोग अपनी चमत्कारी विधाओं से किसी का भी ध्यान अपनी और खींच लेते हैं।

(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

इस रेखा से श्रेष्‍ठ प्रशासक होता है व्‍यक्‍ति

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Know the mysterious figure of the hand which changes life
Astro Buddy