DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  हस्तरेखा  ›  आंख सुंदर हों और मस्तक चौड़ा तो जानिए क्या होता है...

हस्तरेखाआंख सुंदर हों और मस्तक चौड़ा तो जानिए क्या होता है...

पंचांग पुराण टीम ,मेरठ Published By: Praveen
Tue, 23 Mar 2021 12:01 PM
आंख सुंदर हों और मस्तक चौड़ा तो जानिए क्या होता है...

आपने एक कहावत तो जरूर सुनी होगी। हाथ में राजयोग लिखवा कर लाया है। इसका मतलब है जिन लोगों के हाथों में यह योग होता है वह बहुत ही भाग्यशाली होते हैं। ज्योतिष विज्ञान में राजयोग को बारे में विस्तार से चर्चा की गई है। राजयोग यानी राजा जैसा योग जिसमें सभी सुख-सुविधाएं, ऐश्वर्य और धन-धान्य हो। जिनके पास ऐसा होता है वे किसी राजा से कम भी नहीं होते। लेकिन सवाल यह है कि राजयोग होता क्या है। जानिए हाथ में बनने वाले राजयोग के बारे में। 
ऐसे लोग जिनके हथेली के बीच में घोड़ा यानी अश्व, घड़ा, पेड़ या स्तंभ का निशान होता है तो वह राजयोग भोगता है। ऐसे लोग बेहद धनवान होते हैं। इसी तरह जिन लोगों का मस्तक यानी ललाट चौड़ा हो, विशाल हो, नेत्र सुंदर हों, मस्तक गोलाई लिए हो और भुजाएं लंबी तो ऐसा व्यक्ति भी राजसुख भोगता है। सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार जिन लोगों के हाथों में धनुष, चक्र, माला, कमल, ध्वजा, आसन, रथ अथवा चतुष्कोण हो तो इन लोगों पर भी लक्ष्मी की कृपा रहती है।

यह भी पढ़ें:  Amalaki Ekadashi 2021: 24 या 25 मार्च जानिए किस दिन है आमलकी एकादशी? नोट कर लें पूजा व्रत पारण का शुभ मुहूर्त

 इन लोगों को सब सुख-सुविधाएं मिलती हैं। इसी तरह यदि अंगूठे में यव का निशान मौजूद हो, मछली, छात्रा, अंकुश, वाीण, सरोवर या फिर हाथी समान कोई निशान बना हो तो ऐसा व्यक्ति अत्यधिक यश को पाने वाला और अकून धन का स्वामी होता है। ऐसे लोग जिनके हाथों में सूर्य की रेखा मस्तक रेखा से मिल हो, मस्तक रेखा साफ और सीधी होकर गुरु पर्वत की ओर झुकते हुए चतुष्कोण का निर्माण कर रही हो ऐसा व्यक्ति मंत्री पद का सुख भोगता है। हाथों में गुरु एवं सूर्य पर्वत उच्च हों, शनि एवं बुध रेखा पुष्ट और स्पष्ट हो तो ऐसा व्यक्ति शासन में उच्च पद को पाने वाला होता है। व्यक्ति के हाथ में शनि पर्वत पर त्रिशूल का निशान हो, चंद्र रेखा का भाग्य से सीधा संबंध हो अथवा भाग्य रेखा हथेली के बीच से शुरू होरक उसकी एक शाखा गुरु पर्वत पर और दूसरी सूर्य पर्वत पर पहुंच तो वह राज्य में बेहद ऊंचे ओहदे को पाने वाला होता है। 
(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं जिसे मात्र सामान्य जरुरचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)
 

संबंधित खबरें