DA Image
8 मई, 2021|7:17|IST

अगली स्टोरी

यहां से शुरू हो भाग्य रेखा तो 35 साल के बाद सफलता

हस्तरेखा विज्ञान में भाग्य रेखा बेहद महत्वपूर्ण मानी गई है। यह व्यक्ति के जीवन में भाग्य का संकेत करती है। भाग्य रेखा कई तरह की होती हैं। हालांकि जिन लोगों के हाथों में भाग्य रेखा नहीं होती, इसका मतलब यह नहीं है कि उनका जीवन बेकार है। रेखाएं निरंतर बदलती रहती हैं। जानिए किस तरह की होती हैं भाग्य रेखाएं और क्या होता है उनका अर्थ। 
-यदि भाग्य रेखा गहरी और लंबी है तो यह पेशेवर दृष्टिकोण में स्थितरता को दर्शाती है। 
-यदि भाग्य रेखा संकीर्ण और बीच में पतली है तो इसका मतलब है कि युवा अवस्था के दौरान अच्छा कॅरियर। लेकिन मध्यम आयु के बाद कुछ दिक्कतें हो सकती हैं।  
-उथली भाग्य रेखा कदम-कदम पर जीवन में कठिनाइयों का संकेत करती है। 
-संकीर्ण और अस्पष्ट भाग्य रेखा अस्थिरता को दर्शाती है। 
-यदि भाग्य रेखा जीवन रेखा से शुरू हो तो इसका मतलब है कि व्यक्ति ऊर्जावान है और मेहनत के दम पर बेहतर स्थिति को प्राप्त करेगा। 

यह भी पढ़ें: चाणक्य नीति: किसी भी स्त्री, राजा और ब्राह्मण की ये चीज ही होती है उसकी ताकत, आप भी जान लें

-मस्तिष्क रेखा से भाग्य रेखा शुरू होने का मतलब है कि कि ऐसे लोगों को सफलता 35 साल के बाद मिलेगी। इससे पहले उनके जीवन में कठिनाइयों और असफलता बनी रहती है। 
-यदि भाग्य रेखा जीवन रेखा से घिरी हुई है तो यह कॅरियर में समस्या और परेशानी का संकेत देती है। 
-यदि भाग्य रेखा जीवन रेखा को पार नहीं करे तो ऐसे लोग युवा अवस्था में अच्छी संपत्ति को प्राप्त करते हैं। 
-यदि भाग्य रेखा मस्तिष्क रेखा पर रुक जाए तो गलत निर्णय के चलते अपना काम छोड़ देते हैं। 
-भाग्य रेखा अंत में हल्के रंग की और पतली हो तो जीवन में यह समय बेहद कठिन होता है। 
-भाग्य रेखा पर पर्वत होना कॅरियर में रुकावट का संकेत देता है। पर्वत का आकार समस्या की गंभीरता को दर्शाता है। 
(इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Destiny line to start from here success after 35 years