प्रवचन

निमित्त भाव से करें प्रत्येक कर्म

जैसे एक किसान खेत जोतकर बीज डाल देता है। फिर उसमें कैसे और कितनी पैदावार होगी, यह उसके अधीन नहीं। ठीक यही हाल हमारे कर्मों का है, जिसे हमें साक्षी भाव से करते हुए भावी पर छोड़ निश्चित हो रहना चाहिए।

Tue, 16 Aug 2022 10:27 AM

अपनी प्रसन्नता को मत टालो!

जीवन अस्सी प्रतिशत आनंद है और बीस प्रतिशत दुख है। लेकिन हम उस बीस प्रतिशत को पकड़ कर बैठ जाते हैं और उसे कई गुना बढ़ा लेते हैं। यह जानबूझ कर नहीं होता है। हमें प्रयास करके अंतस में बसे आनंद को अधिक से

Tue, 16 Aug 2022 09:52 AM

सजगता की यात्रा परमात्मा की यात्रा है

ध्यान का अर्थ एकाग्रता नहीं है। ध्यान का अर्थ है सजगता। जितना चित्त जागेगा, उतना ही ज्यादा भीतर प्रवेश होगा। जितना चित्त जागेगा, उतना ही विचार विसर्जित हो जाएंगे। जैसे ही आप जागेंगे, एक क्षण को भी जाग

Mon, 15 Aug 2022 12:05 PM

शुद्ध हृदय से साधना ही भक्ति का मर्म

आध्यात्मिक शक्ति सबसे प्रबल होती है। प्रश्न यह है कि कोई ऐसी आध्यात्मिक शक्ति कैसे प्राप्त कर सकता है? साधना के अभ्यास से व्यक्ति आध्यात्मिक शक्ति प्राप्त कर सकता है।

Mon, 15 Aug 2022 11:57 AM

ब्रह्मांड का मूल स्रोत है प्रकृति

श्रीमद्भगवद्गीता में ‘प्रकृति’ को अनूठे रूप में परिभाषित किया गया है। प्रकृति यानी कृति से पहले। सृजन से पहले ही जिसकी शाश्वत उपस्थिति हो, वही प्रकृति है। गौरतलब है कि अंग्रेजी भाषा में ‘प्रकृति’ का अ

Tue, 19 Jul 2022 01:54 PM
meditation

स्वयं को साधने से खुलते हैं ईश्वर के मार्ग

मनुष्य को सदैव जागृत रहना चाहिए। प्रत्येक प्राणी से स्नेह भी जरूरी है, क्योंकि हर कण में ईश्वर का अंश समाहित है।

Tue, 19 Jul 2022 12:08 PM
lord shiva

विष को पचाने का सामर्थ्य शिव में ही है

शिव के शरीर में सर्प लिपटे रहते हैं, ऐसा पुराणों में कहा गया है। सर्प साक्षात विष या मृत्यु का लक्षण है। किन्तु अमृतस्वरूप शिव पर उस विष या मृत्यु का कोई प्रभाव नहीं होता। मानसिक या मनन समाधि के देवता

Tue, 19 Jul 2022 12:04 PM
jaya kishori

कथा वाचन करने वाली जया किशोरी देती हैं बॉलीवुड स्टार्स को टक्कर

सोशल मीडिया पर कथावाटक जया किशोरी के वीडियो किसी भी बॉलीवुड सिलेब्स के वीडियो से कम वायरल नहीं होते और सभी सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर उनकी फॉलोइंग भी किसी बड़े स्टार को टक्कर देती है।

Thu, 14 Jul 2022 06:40 PM

गुरु पूर्णिमा विशेष : सच्चे शिष्य को गुरु मिल ही जाते हैं

अगर आप गुरु की ओर एक कदम बढ़ाते हैं, तो गुरु आपकी ओर सौ कदम बढ़ाते हैं। लेकिन वह पहला कदम आपको यानी शिष्य को ही उठाना पड़ता है। अपने गुरु के जितने निकट आप जाते जाएंगे, उतने ही आप खिलते चले जाएंगे।

Tue, 12 Jul 2022 01:19 PM
sawan 2022

Sawan Month : शिव और शक्ति को समर्पित सावन माह

देवाधिदेव महादेव की पूजा-अर्चना ऐसे तो पूरे वर्ष अप्रतिम श्रद्धा व विश्वास से की जाती है, पर श्रावण मास शिव को विशेष रूप से प्रिय है। यही कारण है शिव की शक्ति देवी भवानी की भी विशेष पूजा-अर्चना श्रावण

Tue, 12 Jul 2022 08:52 AM
meditation

चातुर्मास विशेष : जप-तप व साधना के चार मास

chaturmas 2022 : भारतीय संस्कृति प्रारम्भ से ही अहिंसा, संयम, तप और जीव मात्र के प्रति गहरी करुणा, भावना पर आधारित रही है। संन्यासियों को आदर्श मानकर जहां उनके लिए कठोर नियम बनाए गए हैं, वहीं गृहस्थों

Tue, 12 Jul 2022 08:46 AM
yog

आध्यात्मिक सफलता का रहस्य

जो परिवर्तनशील इंद्रिय अनुभवों से प्रभावित हुए बिना दुख-सुख, सर्दी-गर्मी में समभाव में रहता है, वह मनुष्यों में एक सच्चा राजा बन जाता है। अपरिवर्तनशीलता को प्राप्त करके वह अपरिवर्तनीय परमात्मा के साथ

Tue, 28 Jun 2022 10:36 AM
meditation

ध्यान से मिलती है मोक्ष की सिद्धि

प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव ने सर्वप्रथम योग विद्या का उपदेश दिया। उन्होंने सर्वप्रथम आसन, तप, ध्यान किया और शुद्ध आत्मा को प्राप्त किया और उपदेश दिया कि आत्मा ही संवर और योग है।

Wed, 22 Jun 2022 08:13 AM

जगत को राममय देखना ही भक्ति

भक्ति का आनंद अलौकिक होता है। जो इसके रस में सराबोर हो गया, वह सांसारिक कष्टों से उबर जाता है। अब प्रश्न उठता है कि भक्ति है क्या? इस प्रश्न का उत्तर भक्त शिरोमणि माता शबरी को भगवान राम ने बताया था।

Tue, 14 Jun 2022 09:43 AM

स्वयं में लाएं आध्यात्मिक चेतना

जब व्यक्ति को अंतर्ज्ञान प्राप्त हो जाता है, तो उसके सभी कष्ट और संकट दूर हो जाते हैं। मन सुख और दुख का बोधक है, लेकिन ब्रह्म अतिमानसिक अवस्था से भी ऊपर है। उसे पाने के लिए आपको अपने मन की सीमा को पार

Tue, 07 Jun 2022 10:29 AM
yoga

 शून्य हो जाने की अवस्था है ध्यान

ओंकार के नाद में लिपटे हुए शब्द जब आते हैं, बस कोई इसे हृदय से सुनने वाला चाहिए! ये शब्द शून्य से आते हैं। अगर तुम्हें भी इस शून्य की थोड़ी-थोड़ी झलकियां आने लगी हों, तो ही तुम इन अपूर्व वचनों का रस प

Fri, 03 Jun 2022 02:00 PM

शून्य हो जाने की अवस्था है ध्यान

ओंकार के नाद में लिपटे हुए शब्द जब आते हैं, बस कोई इसे हृदय से सुनने वाला चाहिए! ये शब्द शून्य से आते हैं। अगर तुम्हें भी इस शून्य की थोड़ी-थोड़ी झलकियां आने लगी हों।

Wed, 01 Jun 2022 10:42 AM

प्रार्थना से खुलेंगे हृदय के द्वार

लोगों का मन इतना उद्वेलित रहता है कि वर्तमान क्षण में आना उनके लिए बहुत कठिन हो जाता है। गुरु आपको वर्तमान क्षण में उपस्थित रहने के लिए मार्गदर्शन करते हैं।

Tue, 24 May 2022 12:23 PM
swami vivekananda

अपनी मुक्ति का रास्ता स्वयं गढ़ो

स्वामी विवेकानंद ने 18 मार्च, 1900 को अमेरिका के सैन फ्रान्सिस्को में ‘संसार को बुद्ध का संदेश’ व्याख्यान दिया। बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर प्रस्तुत है, उसी व्याख्यान का एक संपादित अंश... बुद्ध ने निम्न

Tue, 10 May 2022 11:52 AM
yoga

पूर्ण इच्छा-मुक्ति ही, सही परम-वैराग्य

पतंजलि वैराग्य को भी दो हिस्सों में विभाजित करते हैं। एक आरम्भिक वैराग्य, जिसे वे कहते हैं वशीकार वैराग्य और दूसरा परम वैराग्य। एक को अपर और दूसरे को परवैराग्य कहते हैं। एक तो है आसक्ति, दूसरा है विरक

Tue, 26 Apr 2022 11:28 AM