फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ विधानसभा चुनाव उत्तराखंड चुनाव 2022उत्तराखंड चुनाव 2022: वोट न देने का संकल्प लेकर गांव किया खाली, जानिए क्या है वजह

उत्तराखंड चुनाव 2022: वोट न देने का संकल्प लेकर गांव किया खाली, जानिए क्या है वजह

चुनावों में किए गए अच्छे स्कूल, स्वास्थ्य, बिजली और पानी की आधारभूत सुविधाओं के वादे पूरे न होने पर नैनीताल जिले में मझेड़ा गांव के किमु तोक के आखिरी परिवार ने भी गांव छोड़ दिया। चंद्र भूषण पंत का...

उत्तराखंड चुनाव 2022: वोट न देने का संकल्प लेकर गांव किया खाली, जानिए क्या है वजह
Himanshu Kumar Lallगरमपानी |  कैलाश नेगीMon, 17 Jan 2022 02:39 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

चुनावों में किए गए अच्छे स्कूल, स्वास्थ्य, बिजली और पानी की आधारभूत सुविधाओं के वादे पूरे न होने पर नैनीताल जिले में मझेड़ा गांव के किमु तोक के आखिरी परिवार ने भी गांव छोड़ दिया। चंद्र भूषण पंत का परिवार हल्द्वानी चला गया। परिवार का कहना है कि जब जिंदगी की हर समस्या हमें खुद हल करनी है, तो नेताओं को वोट देने का कोई फायदा नहीं। इसलिए अब कभी मतदान नहीं करेंगे। मझेड़ा गांव अल्मोड़ा हाईवे पर स्थित गरमपानी से मात्र तीन किलोमीटर ऊपर पहाड़ी पर स्थित है, जहां आज भी पानी, सड़क जैसी सुविधाओं का इंतजार है।  

रामलीला भी बंद : गरमपानी क्षेत्र की सबसे प्राचीन तथा प्रसिद्ध रामलीला मझेड़ा गांव में होती थी। यहां करीब सौ सालों से लगातार आयोजन हो रहा था। पर पलायन के कारण गांव में रामलीला करने वाले कलाकार ही नहीं बचे। मझेड़ा ग्राम बेतालघाट ब्लॉक की उन शीर्ष-10 ग्राम सभाओं में शामिल है, जहां विकास के लिए हर साल दस लाख का बजट जारी होता है लेकिन गांव में मूलभूत सुविधाएं नहीं हैं। प्रधान भास्कर चंद का कहना है कि कई बार प्रयास के बाद भी पलायन रोकने में सफल नहीं हो पाते। 

न सड़क बनी न पानी मिला
चंद्र भूषण पंत कहते हैं कि उनका घर गांव के बीच में है, जहां चारों ओर जंगल है। उनके घर के लिए आज तक न रास्ता बन सका और न ही पानी की कोई व्यवस्था है। सुबह दूर जाकर पानी लाना पड़ता है। बीमारी और बुढ़ापे में यह तकलीफदेह है। इसलिए मजबूरी में गांव छोड़ने को मजबूर हैं।

पलायन पूरे प्रदेश के लिए गंभीर समस्या है। मतदान के जरिए ही इन समस्याओं का हल निकाला जा सकता है। लोगों से चुनाव बहिष्कार नहीं करने की अपील है। हम टीम बनाकर गांव गांव जा रहे हैं जिससे कि लोगों को मतदान के प्रति जागरुक करेंगे।  
राहुल साह, एसडीएम, कोश्याकुटोली 

 

epaper