DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   विधानसभा चुनाव  ›  तमिलनाडु चुनाव 2021  ›  तमिलनाडु में इन सीटों के चुनावी परिणाम तय करेंगे राज्य का भविष्य 
तमिलनाडु चुनाव 2021

तमिलनाडु में इन सीटों के चुनावी परिणाम तय करेंगे राज्य का भविष्य 

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Tarun Singh
Sun, 02 May 2021 08:36 AM
तमिलनाडु में इन सीटों के चुनावी परिणाम तय करेंगे राज्य का भविष्य 

तमिलनाडु के चुनावी परिणाम आने शुरू हो गए हैं। शुरुआती रुझानों में डीएमके बढ़त बनाए हुए है। आज शाम तक यह स्पष्ट हो जाएगा कि तमिलनाडु की जनता ने किसे सत्ता सौंपी है। लोकसभा चुनावों में शानदार जीत दर्ज करने के बाद एमके स्टालिन की नेतृत्व वाली डीएमके काफी उत्साहित है। वहीं 10 साल से सत्ता में काबिज एआईडीएमके इस उम्मीद में है कि राज्य की जनता है उन्हें तीसरी बार मौका देगी। फिल्म अभिनेता कमल हासन भी इस बार चुनावी मैदान में हैं। 

LIVE: बंगाल में 18 सीटों पर आगे चल रही TMC, 12 पर बीजेपी को बढ़त

इन VIP सीटों पर रहेंगी सभी की निगाहें  

ई पलानी स्वामी - इडाप्पडी - मुख्यमंत्री - एनडीए गठबंधन ने एक बार फिर से अपना मुख्यमंत्री उम्मीदवार ई पलानी स्वामी को बनाया है। चुनावी परिणाम के लिहाज से यह सीट काफी अहम हो जाती है। 

ओ पन्नीरसेल्वम - बोदिनायाकन्नूर- उप मुख्यमंत्री- राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके ओ पन्नीरसेल्वम पिछले कई चुनाव यहां से जीतते आ रहा हैं। अन्नाद्रमुक के दिग्गज नेता ओ पन्नीरसेल्वम को एक बार फिर यहां से जीत की उम्मीद होगी। 

एम के स्टालिन- कोलाथुर- डीएमके प्रमुख- विपक्षी गठबंधन इस बार एम के स्टालिन के नेतृत्व में चुनाव लड़ रही है। अगर कांग्रेस और डीएमके गठबंधन की सरकार बनी तो एम के स्टालिन उसके नेता होंगे। 

खुशबू सुंदर- थाउजेंड लाइट्स-  भाजपा नेता - चुनाव से कुछ समय पहले भाजपा में शामिल हुई खुशबू सुंदर तमिलनाडु में एक चर्चित चेहरा हैं। गृहमंत्री अमित शाह ने भी इनके लिए प्रचार किया था। 

यू स्टालिन- चेपाॅक- पूर्व  मुख्यमंत्री एम करूणानिधि के पोते यहां से चुनावी मैदान में हैं। प्रचार के दौरान वह अपने बयानों की वजह से भी विवादों में घिरे थे। 

कमल हासन- कोयम्बटूर दक्षिण- फिल्म अभिनेता और एम एन एम प्रमुख - कमल हासन की पहचान एक दमदार फिल्म अभिनेता के रूप में होती रही है, लेकिन इस बार वह चुनावी मैदान में उतरे हैं। 

टीटीवी दिनाकरन- कोविलपट्टी - जयललिता की करीबी रही शशिकला के भतीजे - जयललिता की मृत्यु के बाद शशिकला को उनका उत्तराधिकारी माना जा रहा था, लेकिन जेल से छूटने के बाद उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया। उनके भतीजे दिनाकरन कोविलपट्टी से चुनावी मैदान में उतरे हैं। 

पिछले कई दशकों के बाद यह पहला विधानसभा चुनाव है जब राज्य के दो दिग्गज नेता जयललिता और करुणानिधि के अनुपस्थिति में चुनाव लड़ा जा रहा है। 234 विधानसभा सीटों वाली केरल विधानसभा सभा में बहुमत के लिए 118 सीटों की जरूरत होगी। 

2016 के नतीजे 

तमिलनाडु में ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) और भाजपा गठबंधन का मुकाबला द्रविड़ मुनेत्र कषगम (डीएमके) और कांग्रेस गठबंधन से है। 2016 चुनाव में एआईडीएमके को 134 सीटों पर जीत हासिल हुई थी तो डीएमके ने 89 सीटों पर कब्जा जमाया था। कांग्रेस को 8 सीटें मिली थीं। भाजपा का पिछले विधानसभा चुनाव में खाता भी नहीं खुला था।

संबंधित खबरें