From Jharokha of past Legislative Assembly Elections: candidate came to enroll after drunk and drove him away from Collectorate campus - अतीत के झरोखे से: दारू पीकर नामांकन करने पहुंचे प्रत्याशी को कलक्ट्रेट से भगाया DA Image
15 दिसंबर, 2019|5:43|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

अतीत के झरोखे से: दारू पीकर नामांकन करने पहुंचे प्रत्याशी को कलक्ट्रेट से भगाया

ghatshila assembly constituency  jharkhand legislative assembly elections 2019

घाटशिला विधानसभा क्षेत्र की दो पुरानी लेकिन रोचक घटनाएं ऐसी हैं जिसे आज भी चटखारे लेकर लोग सुनते-सुनाते हैं।  
वर्ष 1980 में हुए विधानसभा चुनाव में घाटशिला क्षेत्र के लिए पहली बार भाजपा ने अपने उम्मीदवार का नाम तय कर दिया था।

 भाजपा की स्थानीय कमेटी ने केंदाडीह (मुसाबनी) निवासी सत्यनारायण सोरेन उर्फ गिड्डू मुखिया को चुनाव लड़ाने की तैयारी कर ली थी। उस समय घाटशिला विस चुनाव के लिए भी नामांकन पर्चा जमशेदपुर में ही दाखिल करना पड़ता था क्योंकि घाटशिला को अनुमंडल का दर्जा प्राप्त नहीं था। भाजपा नेता कैलाश प्रसाद मेहता और चित्तरंजन प्रसाद (अब स्वर्गीय) गिड्डू मुखिया को साथ लेकर नामांकन करवाने जमशेदपुर पहुंचे। नामांकन करने के लिए तब 125 रु. जमा कराना होता था। देशी दारू के नशे में चूर पार्टी प्रत्याशी गिड्डू मुखिया सवा सौ रुपए का सिक्का झोला में लेकर जमशेदपुर कलेक्ट्रेट पहुंचे।

सामने पड़ गए सांसद रुद्र प्रताप षाड़ंगी उर्फ नानाजी। अपने प्रत्याशी को नशे में चूर देख गुस्साए नानाजी ने उसे जोर का एक थप्पड़ जड़ दिया और वहां से भगा दिया।  इस तरह से घाटशिला सीट से भाजपा के उस प्रत्याशी का नामांकन तो नहीं ही हुआ और अन्य किसी को भी उस चुनाव में घाटशिला विधानसभा क्षेत्र से चुनाव नहीं लड़ाया गया।


गाड़ी में तेल भरवाने के नाम पर प्रत्याशी ने मैदान छोड़ दिया
इसी तरह वर्ष 1985 के विधानसभा चुनाव में भाजपा ने डुमरिया निवासी माहीराम बास्के को घाटशिला से अपना प्रत्याशी बनाया था। चुनाव प्रचार जोरों पर चल रहा था। माहीराम को चुनाव प्रचार के लिए तब जमशेदपुर पूर्वी के विधायक दीनानाथ पांडेय ने एक जीप उपलब्ध करायी और कहा कि इसका किराया नहीं लगेगा, लेकिन उम्मीदवार को तेल अपने खर्च से भराना होगा। इतना सुनते ही भाजपा प्रत्याशी माहीराम लापता हो गये। बाद में कुछ लोगों ने देखा कि भाजपा प्रत्याशी माहीराम अपने पक्ष में वोट मांगने की बजाय कांग्रेस प्रत्याशी डॉ. करणचंद्र मार्डी की गाड़ी में बैठकर क्षेत्र में घूम रहे थे। बहरहाल प्रचार की जीप लेकर भाजपा के कैलाश मेहता, चित्तरंजन प्रसाद अपने दो-तीन साथियों के साथ प्रचार में लगे रहे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:From Jharokha of past Legislative Assembly Elections: candidate came to enroll after drunk and drove him away from Collectorate campus