DA Image
29 अक्तूबर, 2020|11:51|IST

अगली स्टोरी

कांटी विधानसभा सीट: क्या है इस सीट का इतिहास और वर्तमान, कौन मार सकता है बाजी?

                                                                -

 

कांटी विधानसभा सीट पर चुनाव के दूसरे चरण में ही मतदान होना है। यहां 3 नवंबर को वोट डाले जाएंगे। इस बीच सभी दल अपने-अपने प्रत्याशियों को जीत दिलाने के लिए ताबड़तोड़ रैलियां और जनसभाएं कर रहे हैं।

कौन-कौन से प्रत्याशी हैं मैदान में?

कांटी विधानसभा सीट पर इस बार की चुनावी भिडंत मुख्य रूप से जदयब के मो. जमाल और राजद के मो. इसराइल मंसूरी के बीच बताई जा रही है। इस सीट के मौजूदा विधायक अशोक कुमार चौधरी हैं। यह सीट एससी प्रत्याशियों के लिए सुरक्षित है। 2015 के विधानसभा चुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी अशोक कुमार चौधरी ने हम (सेक्युलर) के अजीत कुमार को हराया था। इसके अलावा इस सीट पर लोजपा के विजय सिंह भी चुनावी मैदान में हैं।

क्या है वोटर और वोटिंग का समीकरण?

इस विधानसभा में कुल 2.93 लाख वोटर हैं। जिसमें 1.57 लाख यानि 53.6 प्रतिशत पुरुष और 1.35 लाख महिलाएं यानि 46.1 प्रतिशत महिला वोटर हैं। यहां पिछले विधानसभा चुनाव में कुल 65.2 प्रतिशत वोटिंग हई थी। इस सीट पर सबसे ज्यादा 65.9 प्रतिशत वोटिंग साल 2000 में ही हुई थी।

इस सीट के जातीय समीकरण की बात करें तो यादव, कुर्मी, कोइरी और राजपूत वोटर ठीक-ठाक संख्या में हैं। जबकि मुस्लिम, भूमिहार और पासवान वोटर अहम भूमिका में बताए जा रहे हैं।

क्या रहा है कांटी विधानसभा सीट का इतिहास?

2015 के नतीजे: 2015 के विधानसभा चुनाव में यहां से  निर्दलीय प्रत्याशी अशोक कुमार चौधरी ने हम (सेक्युलर) के अजीत कुमार को 9,275 वोटों से हरा दिया था। इस सीट पर 1972 के बाद से ही कांग्रेस चुनाव नहीं जीत पाई है। जबकि भाजपा इस सीट पर आज तक चुनाव नहीं जीत पाई है। 

इस सीट पर कुल 16 बार विधानसभा चुनाव हुए हैं, जिनमें से सबसे ज्यादा 5 बार कांग्रेस और दो-दो बार जदयू, जनता दल, कांग्रेस और सुराज्य पार्टी के प्रत्याशी चुनाव जीत चुके हैं।

तीन चरणों में होना है चुनाव, 10 नवंबर को आएंगे नतीजे

बिहार में इस बार कुल तीन चरणों में चुनाव होना है। पहले चरण का मतदान 28 अक्टूबर को हो चुका है, जिसमें कुल 53.54 प्रतिशत वोटिंग हुई है। अब दूसरे चरण का मतदान 3 नवंबर और तीसरे एवं आखिरी चरण का मतदान 7 नवंबर को होना है। अब दूसरे चरण का चुनाव नजदीक है और प्रचार-प्रसार भी तेजी पर है। दूसरे चरण में कुल 94 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है। इन सभी सीटों के लिए तमाम पार्टियों के बड़े से लेकर छोटे नेता तक जमकर रैलियां और जनसभाएं कर रहे हैं। सभी चरणों के चुनाव के बाद 10 नवंबर को बिहार चुनाव के नतीजे भी घोषित कर दिए जाएंगे।  

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Kanti seat 2015 Vote share Poll percent 2020 candidates RJD Ismail Mansuri JDU Mohammad Jamal