DA Image
17 अक्तूबर, 2020|11:03|IST

अगली स्टोरी

नामांकन रद्द होने के बाद फूट-फूटकर रोईं BJP की बागी नेता सुषमा साहू, कहा- सत्ता के खिलाफ चुनाव लड़ने की सजा मिली

bihar assembly election  sushma sahu

बांकीपुर विधानसभा क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़ने जा रही भाजपा की बागी नेता सुषमा साहू का नामांकन रद्द कर दिया गया है। नामांकन रद्द होने के बाद सुषमा साहू फूट-फूटकर रोईं। शनिवार को संवाददाता सम्मेलन कर उन्होंने कहा कि वह 14 अक्टूबर को नामांकन किया था। आज सेक्शन 364 का हवाला देकर नामांकन रद्द कर दिया गया, जबकि रिटर्निंग ऑफिसर के पास नामांकन स्वीकृत करने का अधिकार था। सुषमा साहू ने भाजपा के उम्मीदवार के साथ सत्ता के खिलाफ जमकर बरसा। 

सुषमा साहू ने कहा कि एक बनिया की बेटी होने की सजा मिली है। बनिया को सिर्फ बंधुआ वोटर माना जाता है। अगर वह बड़े बाप की बेटी और पति होते तो आज उसका नामांकन रद्द नहीं होता। वह सत्ता में परिवर्तन की बयार लाने के लिए चुनाव लड़ने जा रही थी। बिना किसी का नाम लिए कहा कि कुछ लोग सत्ता में रहकर पांच साल तक जनता को मुहं नहीं दिखाते हैं। सिर्फ तगड़ा मैनेजमेंट कर दोबारा सत्ता में आ जाते हैं। सत्ता से लड़ने की सजा नामांकन रद्द कर दिया गया है। यही भाजपा में कार्यकर्ता का सम्मान नहीं होने की बात कही। 

उन्होंने कहा कि मैं कोई अपराध नहीं कर रही थी, चुनाव लड़ना सबके अधिकार क्षेत्र में होता है। रोते हुए कहा कि उसने भाजपा से इस्तीफा से दे दिया है। वह रुकेगी नहीं। आगे की रणनीति खुद बनाकर लड़ाई लड़ेगी और जीतेगी। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:bihar assembly election bjp rebel leader sushma sahu nomination canceled she contest independents from bankipur assembly seat